Al Tamur Traders

Saturday, June 30, 2012

मांसाहार की अनुमति हिन्दू धार्मिक ग्रंथ में ??







हिन्दू धार्मिक ग्रंथ मांसाहार की अनुमति देते हैं !


सत्य यह है कि हिन्दू धर्म ग्रंथ इंसान को मांस खान की इजाज़त देते हैं। ग्रंथों में उन साधुओं और संतों का वर्णन है जो मांस खाते थे।

(क) हिन्दू कानून पुस्तक मनुस्मृति के अध्याय 5 सूत्र 30 में वर्णन है कि - ''वे जो उनका मांस खाते हैं जो खाने योग्य हैं, कोई अपराध नहीं करते है, यद्यपि वे ऐसा प्रतिदिन करते हों क्योंकि स्वयं ईश्वर ने कुछ को खाने और कुछ को खाए जाने के लिए पैदा किया है।''

(ख) मनुस्मृति में आगे अध्याय 5 सूत्र 31 में आता है - ''मांस खाना बलिदान के लिए उचित है, इसे दैवी प्रथा के अनुसार देवताओं का नियम कहा जाता है।''


(ग) आगे अध्याय 5 सूत्र 39 और 40 में कहा गया है कि - ''स्वयं ईश्वर ने बलि के जानवरों को बलि के लिए पैदा किया, अत: बलि के उद्देश्य से की गई हत्या, हत्या नहीं।''

महाभारत अनुशासन पर्व अध्याय 88 में धर्मराज युधिष्ठिर और पितामह भीष्म के मध्य वार्तालाप का उल्लेख किया गया है कि कौनसे भोजन पूर्वजों को शांति पहुँचाने हेतु उनके श्राद्ध के समय दान करने चाहिए। प्रसंग इस प्रकार है-

''युधिष्ठिर ने कहा, ''हे महाबली ! मुझे बताइए कि कौन-सी वस्तु जिसको यदि मृत पूर्वजों को भेंट की जाए तो उनको शांति मिलेगी ? कौन-सा हव्य सदैव रहेगा ? और वह क्या है जिसको यदि पेश किया जाए तो अनंत हो जाए ?ÓÓ भीष्म ने कहा, ''बात सुनो, ऐ युधिष्ठिर कि वे कौन-सी हवि हैं जो श्राद्ध रीति के मध्य भेंट करना उचित हैं। और वे कौन से फल हैं जो प्रत्येक से जुड़ें है? और श्राद्ध के समय शीशम बीज, चावल, बाजरा, माश, पानी, जड़ और फल भेंट किया जाए तो पूर्वजों को एक माह तक शांति रहती है। यदि मछली भेंट की जाएँ तो यह उन्हें दो माह तक राहत देती है। भेड़ का मांस तीन माह तक उन्हें शांति देता है। $खरगोश का मांस चार माह तक, बकरी का मांस पाँच माह और सूअर का मांस छह माह तक, पक्षियों का मांस सात माह तक, 'प्रिष्टाÓ नाम के हिरन के मांस से वे आठ माह तक और ''रूरूÓÓ हिरन के मांस से वे नौ माह तक शांति में रहते हैं। त्रड्ड1ड्ड4ड्डं के मांस से दस माह तक, भैंस के मांस से ग्यारह माह और गौ मांस से पूरे एक वर्ष तक। पायस यदि घी में मिलाकर दान किया जाए तो यह पूर्वजों के लिए गौ मांस की तरह होता है। बधरीनासा (एक बड़ा बैल) के मांस से बारह वर्ष तक और गैंडे का मांस यदि चंद्रमा के अनुसार उनको मृत्यु वर्ष पर भेंट किया जाए तो यह उन्हें सदैव सुख-शांति में रखता है। क्लास्का नाम की जड़ी-बूटी, कंचना पुष्प की पत्तियाँ और लाल बकरी का मांस भेंट किया जाए तो वह भी अनंत सुखदायी होता है। अत: यह स्वाभाविक है कि यदि तुम अपने पूर्वजों को अनंत सुख-शांति देना चाहते हो तों तुम्हें लाल बकरी का मांस भेंट करना चाहिए !


MAASA'HAAR KA SEVAN, HINDU DHAARMIK GRANTH ME


" we jo maas (meat) khaate hain jo khaane yogya hai, koi apraadh nahi karte hain, yadhypi we aisa pratidin karte hon, kyonki swayam ishwar ne kuch ko khaane aur kuch ko khaaye jaane ke liye paida kiya hai"

(manu'smriti adhyay 5 sutr 30)


" maas khaana balidaan ke liye uchit hai, ise devi pratha ke anusaar devtaaon ka niyam(rule) kaha jaata hai"

(manu'smriti adhyay 5 sutr 31)


" swayam ishwar ne bali ke jaanwaron ko bali ke liye paida kiya, isliye bali ke udeshya se ki gayi hatya, hatya nahi "

(manu'smriti adhyay 5 sutr 39-40)


PAVITRA QURAAN KA BAYAAN


" aiy iman waalon ! Har kartavya ka nirwaah karo, tumhare liye chaupaaye jaanwar jayez hai kewal unko chhodkar jinka ullekh kiya gaya hai "

(pavitra qur'an 5:1)


" rahe pashu, unhe bhi usi ne paida kiya, jisme tumhare liye garmi ka samaan (wastra) bhi hai aur hain anya kitne hi laabh, unme se kuch ko tum khaate bhi ho "

(pavitra quran 23:21)