Sahaba Impex

Sahaba Impex
Corkwood Inspired

Wednesday, October 31, 2012

SHAB-E-BARAAT KI HAQEEQAT----(FULL)

BISMILLAHIRAHMANIRRAHEEM




SHAB-E-BARAAT KI HAQEEQAT----(FULL)




Allah farmata hai

"HUMNE YE (QURAN) MUBARAK RAAT ME NAZIL KIA. YAQINAN HUM DRANY WALY HAIN. IS RAT ME HAR HIKMAT WALY KAM KA FAISALA KIYA JATA HAI"

(DUKHAN 44)

IN AYAT ME YE WZAHAT KI GAYI HA K QURAN PAK MUBARAK SHAB ME NAZIL KIYA GYA OR IS SHAB ME FAISALE KIYE JATY HAIN.

LAILATUL MUBARKA SE KYA MURAD HAI,

AAM MOLVIYO KA YE KHAYAL HAI K IS SE MURAD SHAB-E-BARAT HAI.

JAB K TMAM MUTQADEEN,  MOHADESEEN , MUFASSIREEN OR FUQHA K KEHNA HAI K LAILATUL MUBARKA SE MURAD LAILATUL QADAR HAI.

IN SAB KA KEHNA HA K QURAN PAK LAILATUL QADR ME NAZIL KYA GYA OR IS AYAT ME BHI NAZOOL-E-QURAN KA BYAAN HAI.

LAILATUL QADAR KI TAREEF ME BHI WAZAHAT KI GAYI HAI K IS SHAB ME TAMAM UMOOR K FAISALE KIYE JAATE HAIN OR HAR QISM KI SALAMATI NAZIL HOTI HAI

(QURAN-97/​5),

IS SE SAF ZAHIR HAI K LAILATUL MUBARKA OR LAILATUL QADAR DO JUDAGAN RATIEN NAHI HAIN.

SURAH BAQAR ME BHI IS AMAR KI WZAHAT YUN HOWEE HAI K

"HUMNE YE QURAN MAH-E-RAMZ​AN ME NAZIL KIYA"

(QURAN 2/185).

SHAB-E-BARAT RAMZAN ME WAQIE NAHI HOTI, AGAR AISA NA HO TOU QURAN PAK KA NAZOOL DO RATON ME LAZIM AYEGA.

OR YE MAN'NA PADEGA K FAISALY BHI SAAL ME DO MARTABA KIYE JATEY HAIN.

HALAN'K SAHABA KARAM, TABAEEN AUR MUTQADEEN ME SE KOI BHI IS KA QAIL NAHI RAHA.

WO LAILATUL BARAT KO NA TOU ALAG HASIYAT DETY THY OR NA IS RAT KO DUSRI RATON PAR KOI FOQIYAT DETY THY.

YANI DAUR-E-SAHAB OR KABAR TABAEEN K ZAMANY ME SHAB-E-BARAT KA KOI WAJOOD NA THA.

MUTQADMEEN  ME SIRF HAZRAT AKRAMA (R.A)KA KHAYAL HAI K LAILATUL BARAT NISF SHABAN KI SHAB HAI,

KHUD SOOFIYA BHI IS K QAIL RAHE K NAZOOL QURAN PAK SHAB-E-BARAT ME HOWA.

JESA K GHAZALI (R.A) (WAFAT 505 H) KI AEHYA-E-ULOOM OR SHEIKH ABDUL QADIR JILANI (R.A) (WAFAT 561 H) KI GHAUNYATUTALEBIN SY WAZAH HOTA HAI.

DRASAL YE DAWA K QURAN PAK DO BAR NAZIL HOWA,

PEHLI MARTABA SHAH WALI ULLAH (R.A) (WAFAT 1763) NE HAJJATUL BALGHA ME KAHI, UNHO NE YE BAT IS LIYE KAHI K QURAN KA RAD BHI NA HO OR BUZURGO KA ANDHA ETQAD BHI QAIM RAHE.

PHIR MOLANA SHABBIR AHMED USMANI (WAFAT 1951) OR

MOLANA AEHTASHAM UL HAQ THANVI NE BHI IS TAREEQAY KO APNAYA.

LEKIN LUTF KI BAAT YE HAI K SHAB-E-QADAR K WAQT IN AYAT KO SHAB-E-QADAR KI FAZEELAT ME PESH KAR DIYA JATA HAI OR SHAB-E-BARAT KY WAQT SHAB-E-BARAT KI SADAQAT K LIYE PESH KAR DIYA JATA HAI.

YANI IN AYAT KO JIS K SATH CHAHA MUNSALIK KARDIYA.

TAFSEER OR FIQHA KA YE MUSALIMA USOOL HAI K AGAR KOI AYAT MUTHAMIL MAENY NAZAR NA AYE TOU IS KI TAFSEER QURAN PAK HI KI DOOSRI AYAT SE KI JAYEGI.

OR SIRF WOHI MEANING MURAD LIYE JAIEN GAY, JIS KI TAEED QURAN PAK KI AYAT SY HO.

ALLAH TALA KA YE FARMANA K

"HUMNE MAAH-E-RAMZAN ME QURAN PAK NAZIL KYA"

OR PHIR YE KEHNA K

"HUM NE QURAN LAILATUL QADAR ME NAZIL KYA"

YE DONO BAATEN WAZAH HEIN. AESY WAZAH BYAN KI MOOJODGI ME EK MUSHTABA RAWAYYA IKHTIYAR KARNA OR BATOR KHUD YE TASSAWUR QAIM KAR LENA K QURAN PAK DO MARTABA NAZIL HOWA, AIK ILMI KHYANAT HAI.

JAB K TAMAM MUFASAREEN  ISKE QAIL HAIN K LAILATUL MUBARKA SE LAILATUL QADAR MURAD HA TO PHIR KOI WAJA NA THI K IN TAMAM ULMA OR AAIMA KA QOL KO TARAK KAR K SIRF AKRAMA HI KA QOL IKHTYAR KYA JAYE.

HIND O PAK KY AKSAR ULMA OR MUQALA NAWASIYO NY AKRAMA OR SHAH WALI ULLAH KI TAQLEED KY ELAWA KOI TEHQEEQ NAHI KI,

NA UNHO NE YE MALOOM KARNY KI KOSHISH KI K DEGAR MUFASAREEN  KI RAYE KYA HAI.

IN KI TEHREER KO DEKHNY SE ANDAZA HOTA HAI K YE SAB IN K APNY KHAYALAT HAIN JIN KA QURAN MAJEED SE DOOR KA BHI KOI WASTA NAHI BAL K UNHO NE ZAEEF RIWAYAT SE MAROOB HOKAR QURAN PAK KO IN K MUTABIQ DHAL LENY KI KOSHISH KI HAI.

AKRAMA, IBN-E-ABBAS K GHULAM THY OR IN SE RIWAYATEIN  BYAN KI HEIN.

IN K MUTALIQ IMAM ZAHBI KA KEHNA HAI K

"IS KY KHAYALAT K BAES IS KI ZAAT ME KALAM KYA GYA NA K HAFIZA K BAES"

IMAM BUKHARI (R.A) NE IS PER AETAMAD KYA LEKIN IMAM MUSLIM NE IJTINAB KIA OR IS SE BOHT KAM RIWAYAT LI.

OR WO BHI IS WAKT JAB DUSRA RAWI MOJOOD HO.

IMAM MALIK (R.A) NE 1 YA 2 HADITHS K ELAWA IS SE IJTINAB KIYA.

ABDULLAH BIN HARIS KA QOL HAI K MAIN ALI BIN ABDULLAH BIN ABBAS KI KHIDMAT ME HAZIR HOWA TO WAHAN AKRAMA ZANJEERO ME BANDHA PARA THA. MAINE KAHA; AAP ALLAH SE NAHI DARTY? UNHO NE JAWAB DIYA YE KHABEES MERE BAP (FATHER, ABDULLAH BIN ABBAS) PAR JHOOT BOLTA HAI. BEHAR HAL MOHADASEEN  NE AKRAMA KO GHAIR SIQA QRAR DIYA.

YAQOOB AL HAZRAMI NE APNY DADA SE NAQAL KYA HAI K AIK BAR AKRAMA MASJID K DARWAZY PER KHADE HO KAR KEHNE LAGA

"IS MASJID ME JITNY LOG HEIN SAB KAFIR HEIN"

WO KHARJIYO K 1 FIRQE ABAJIYA KA HUM- KHAYAL THA.

IN ULAMA KO JO AKRAMA KI RIWAYAT KO MANTE HAIN,

YE CHATE HEIN K WO PEHLE AKRAMA KI SADAQAT SABIT KAREN PHIR IS PER BEHES KARIN K IS KA QOL DURST HA YA NAHI.

HAIRAT TO IS BAT PER HAI K AKRAMA TO UMMAT MUSLIMA KO WAJIB UL QATAL TASSAWUR KARTA HAI OR HUM IS KI RIWAYAT PER APNY AQAID KI BUNYAD RAKHTE HAIN

JAHAN TAK RIWAYAT KA TALUQ HAI,

HAZRAT AYESHA(RA) SE 1 RIWAYAT BAYAN KI JATI HAI JO HAZRAT AYESHA (R. A)PER SARHEE BOHTAN HAI,

TIRMAZI KI RIWAYAT YUN HAI

"MAINE 1 RAT RASOOL (S.A.W) KO NAHI PAYA. MAIN (TALASH ME) NIKLI TO AAP (S.A.W) BAQI ME THEY AAP (S.A.W) NE POOCHA TU IS SE DARTI HAI K ALLAH OR IS KA RASOOL TERE SATH ZYADTI KAREGA. MAIN NE ARZ KYA AE RASOOL (S.A.W) GUMAN KYA THA K AAP APNI DEGAR AZWAJ K PAS GAYE HEIN. AAP (S.A.W) NE FARMAYA ALLAH TALA NISF SHABAN ME ASMAN SE DUNYA KI JANIB NAZOOL FARMATE HAIN OR BANU KALB KI BHEERO (SHEEPS) K BALO KI TADAD SE ZYADA LOGO KI MAGHFARAT FARMATA HAI"

ISI RIWAYAT PAR TAMAM QISSE KI BUNYAD RAKHI GAYI HAI OR MUSALMAN IS RAAT QABRISTAN K CHAKKAR KAT'TE YA MASJID ME SHAB BEDARI KARTE NAZAR AATE HAIN.

OR ISSE 1 ZAROORI AMAL TASSAWUR KARTE HAIN JIS KA TARK INHE KISI HAL GAWARA NAHI.

HALAN'K MOHADASEEN ​ KI NIGAH ME IS RIWAYAT KI KOI HESIYAT NAHI KHUD IMAM TARMAZI (WAFAT 276 H) NE ISE RIWAYAT KAR K IS PER SHADEED JIRHA KI HAI,

HERAT KI BAT HAI K HUMARE ULMA TIRMIZI KI IS RIWAYAT KO BAYAN KARTE HAIN

MAGAR IMAM TIRMIZI NE IS PER JO BEHES KI HAI IS PER NAZAR NAHI KARTY.

YE AMAR BHI GHOR TALAB HAI K JAB IS RAT KO ITNI FAZEELAT HASIL THI TOU RASOOL (S.A.W) NE SIRF QABRISTAN JAANE PER KYO IKTIFA FARMAYA OR KOI DOOSRA AMAL ANJAM NA DIYA.

IS RIWAYAT ME SHAB BEDARI KA BHI KOI ZIKAR NAHI, AGAR IS RAT KO ITNI FAZEELAT HASIL THI TOU ZAROORI THA K AAP (S.A.W) PEHLE SAHABA KIRAM KO AZWAJ-E-MUTHARAT KO BYAN FARMATY.

TA K SAB IS KI FAZEELAT KO HASIL KARSAKTY OR KAM AZ KAM HAZRAT AYESHA (R.A) KO TOU (NAOOZUBILLAH) AAP (S.A.W) KA PEECHA KARNY KI ZAROORAT PESH NA ATI.

RIWAYAT SE YE TASSAWUR MILTA HA K RASOOL (S.A.W) NUIKHFA SE KAM LIYA THA.

YE AMAR BHI SOCHNY KY QABIL HAI K SURA DAKHAN MAKKI SURA HAI OR HIJRAT SE TAKREEBAN 4 SAL PEHLY NAZIL HOWEE.

JAB K YE WAQYA AGAR HAZRAT AYESHA (R. A) SE SHADI K FORAN BAD BHI PESH AAYA TO HIJRAT KY 16 MONTHS BAD KA WAQYA HOGA.

YE NA MUMKIN C BAT HAI K SURA DAKHAN K NAZOOL K 5 SAL BAD SHAB-E-BARAT KI FAZEELAT MADEENY ME ZAHIR KI GAYI HO OR IS TAMAM MUDDAT ME LOGO KO IS KI FAZEELAT SE LA ILM RAKHA GYA HO.

RIWAYAT ME  LAFZ KI MOJODGI SE TU YE ZAHIR HORAHA HAI K WAQYA HIJRAT K KAYI SAAL BAAD PESH AYA KYO K HAZRAT AYESHA (R.A) FARMA RAHI HAIN K MERA GUMAN THA K AAP (S.A.W) APNI AZWAJ K PAS GAYE HON GY, YANI YE WAQYA IS WAKT KA HAI JAB AAP (S.A.W) K NIKKAH ME MUTADID AZWAJ THIEN.

IS RIWAYAT SE 1 OR BHI MASLA PEDA HOGA, K YE WAQYA 8 HIJRI SE PEHLY KA HAI YA BAD KA, AGAR YE KAHA JAYE K IS SE QABAL KA HAI TOU IS WAKT TAK QABRO KI ZYARAT MANA THI.

OR AGAR KAHA JAYE K YE WAQYA 8 HIJRI K BAD KA HAI TOU SURA DAKHAN K NAZOOL KA 12 SAL BAD IS KI FAZEELAT KA ILM HOWA.

TIRMIZI ME YE RIWAYAT MUKHTASIR HAI.

PHIR JAISE JAISE ZAMANA GUZARTA GAYA IS PER HASHIYE CHARTEY GAYE HATTA K YE 1 TAWEEL DAASTAAN BAN GAYEE.

OR IS ME ITNA DAKHLI TAZAD PEDA HOWA K AL-AMAN.

DUSRI RIWAYT BHI HZ AYESHA (RA) HI SE MANSOOB HAI OR IS K RAWI BHI ARWA HEIN.

RIWAYAT YE HAI K

"HZ AYESHA (R.A) FARMATI HEIN K JAB NISF SHABAN KI SHAB HOWI TO RASOOL (S.A.W) MERE BISTAR SE KHAMOSHI SE NIKAL GAYE PHIR FARMANY LAGE, KHUDA KI QASAM, MERA BISTAR RESHAM KA THA NA QAZKANA KATAN KA OR NA SOF KA, MAIN NE POOCHA SUBHAN ALLAH PHIR WO KIS KA BANA HOWA THA, FARMAYA IS KA TANA BAALON KA OR BANA OONT (CAMEL) K BALO KA THA.

MAIN NE DIL ME YE KHYAL KYA K RASOOL (S.A.W) APNI BAZ AZWAJ K PAS TASHREEF LE GAYE HEIN. ME KHARI HOWEE OR AAP (S. A.W) KO GHAR ME TALASH KYA, ME NE APNY HATH AAP (S.A.W) K QADMO PER BULAN KAR DIYE OR AAP(S.A.W)  SAJDY ME THY.

MAINE NE AAP (S.A.W) KI DUA YAD KAR LI. AAP (S.A.W) FARMA RAHE THY (AE ALLAH) MERE DIL OR MERE KHYAL NE AAP KO SAJDA KYA, OR MERE DIL AAP PER EMAN LAYA. MAIN NEMATO K SATH AAP KI JANIB MUTAWAJA HOTA HOON OR AAP K SAMNY APNY GUNAHO KA ETRAF KARTA HOON. MERI MAGHFART FARMA DIJYEE KYO K AAP K ELAWA KOI GUNAHO KI MAGHFART NAHI KAR SAKTA.MAIN AAP K AFO K ZARYA AAP KY ATAB SE OR AAP KI REHMAT K ZARYE AAP KI SAZA SE OR AAP KI RAZA K ZARYE AAP KI NARAZGI SE PANAH MANGTA HOON OR AAP K ZARYE AAP KI ZAT SE PANAH MANGTA HOON, MAE AAP KI SANA KA SHUMAR NAHI KARSAKTA AAP KI ZAT AESI HI HAI JESY AAP NE APNI KHUD SIFT BYAN FARMAI HO.

HAZRAT AYESHA FARMATI HAIN; RAOOL (S.A.W) SUBAH TAK KHARY RAHE OR BETHTY RAHE HATTA K AAP (S.A.W) K QADMO PER WARM AGAYA.

MAIN AAP KY CHOKY MARTI OR KEHTI THI MERE MAA BAP AAP (S.A.W) PER QURBAN,

KYA ALLAH NE AAP KY AGLY PICHLY GUNAH MAAF NAHI FARMAYE, KYA ALLAH NE AAP K SATH WESA NAHI KYA,

AAP (S.A.W) NE FARMAYA KYA MAE SHUKAR GUZAR BANDA NA BANOO?

AE AYESHA KYA TU JAANTI HAI K IS RAT ME KYA HOTA HAI, MENE ARZ KYA, KYA HOTA HAI...

AE AYESHA KYA TU JANTI HAI K IS RAAT ME KYA HOTA HAI,MENE ARZ KYA, KYA HOTA HAI.

AAP(SWS) NE FARMAYA IS SHAB ME IS SAAL PAIDA HONY WALO OR MARNY WALO K NAAM LIKHY JATY HEIN, ISI SHAB ME RIZQ NAZIL HOTA HAI OR AMAL O AFAL UTHAYE JATY HEIN,

MAINE ARZ KYA YA RASOOLALLA​H(SAS) KOI SHAKS ALLAH KI REHMAT K ZARYE JANNAT MAE DAKHIL NA HOGA AAP (SWS) NE FARMAYA NAHI JAB TAK ALLAH MUJHE APNI REHMAT ME NA DHANP LE.

PHIR AAP (SWS) NE APNY SAR OR APNY CHERAY PER HATH PHERA (DUA K BAD DONO HATH PHERY JATY HEIN, AIK HATH NAHI) IS RIWAYAT KI SANAD ME KHAMIYAN PAEE JATI HEIN.

MANVI LEHAZ SE BHI KHAMIYAN MOOJOOD HIEN.

1.PEHLI RIWAYAT ME BAQI JAANE KA ZIKAR THA, YAHAN WO ZIKAR HI UDA DIYA GYA, IS TARHA HAR DO RIWAYAT ME BAHAM TAZAD HA, SAWAL SIRF ITNA HA K KYA YE DO WAQIYAT HEIN YA AIK WAQYA. AGAR DO WAQYAT HEIN TOU KYA HAZRAT AYESHA (R.A) ITNI KAM FEHaM THIEN K BAR BAR IS QISAM K WAQIYAT PESH ANY K BAWAJOOD HAMESHA BHOOL JATI OR BAR BAR TAKRAR K BAWAJOOD IS RAT KI KOI FAZEELAT BYAN NAHI KARTI.

2.IS RIWAYAT ME JIS DUA KA ZIKAR HAI WO 1 DUA NAHI BAL K MUTADID DUAIEN HEIN JINHE RAAWI NE MUKHTALIF MAQAMAT SE YAKJA KAR K SHAB-E-BARAT SE JOR DIYA.

3. YE JUMLA "YA RASOOLALLA​H (S.A.W)AAP ​K TO AGLY PICHLY GUNAH MAAF HOCHUKY HEIN" YE HZ AYESHA KA QOL NAHI BAL K DEGAR SAHABA KA QOL HAI JO DOOSRI HADEESO SE CHORI KAR K YAHAN JOR DIYA GYA.

YE BAT BHI ZEHN NASEEN RAHE K RASOOL (S.A.W) TAMAM RAT EBADAT NA FARMATY THY JIS KA ZIKAR QURAN

(73/2 SE 4)

ME MILTA HAI OR IS KI TAEED ME LATADAD HADITH MOJOOD HEIN.

4.SHAB-E-BAR​AT K SILSALY ME JITNI RIWAYAT HEIN IN ME SE KISI ME BHI TAREEKH (DATE) KA ZIKAR NAHI " NISF SHABAN WALI MANTAQ BHI AJEEB HAI, AGAR NISF SHABAN YANI 15 TH SHAB KO EBADAT KI JAYE OR CHAN 29 TH KO HOJAYE TOU NISF SHAB KYA REH JAYE GI.

LAFZ BARAT KI TEHQEEQ BHI ZAROORI HAI.

LAFZ TABRA BARAT HI SE MUSHTAQ HAI, BARAT K MEANING HIEN BEZARI YA IZHAR-E-NA ​FRAT.

SURA TOBA KA DOOSRA NAM SURA BARAT HAI KYO K IS SURA ME KUFFAR OR MUSHREKEEN ​ SE BARAT KA ELAN KYA GYA HAI.

IN MEANINGS K PESH NAZAR YE BAT BHI GHOR TALAB HAI K SHAB-E-BAR​AT ME KIS BAT SE BEZARI KA IZHAR KYA JATA HAI OR IS NAM KI IBTADA KAB SE HOWEE.

KISI AIK HADEES ME BHI LAFZ BARAT ISTAMAL NAHI HOWA.

FIRQA AEHL-E-BAT​IL KA AQEEDA HAI K IS RAT IS FIRQY K LOG IMAM MEHDI SE IN K KHIROJ KI YANI BAHIR NIKALNY KI DAKHWAST KARTY HEIN TA K MOMINEEN RAFZIYO KI AEANAT KARIN OR MUNKAREEN YANI AEHLE SUNNAT KA SAFAYA KARIN.

IS TARAH AEHL-E-SUN ​NAT OR SAHABA SE BEZARI KA IZHAR KARTY HEIN ISI LIYE IS SHAB KA NAM BARAT HAI OR YE SHAB TABARRA HAI,

LUTF YE HAI K YE FIRQA YE KHIDMAT APNI CHALAKI SE AEHL SUNNAT SE LE RAHE HIEN.

YE BAT AFSOS NAK HAI K ISLAM KO JITNA NUQSAN SOOFIYA NE APNI LA ILMI SE POHNCHAYA SHAYED ZANDEEQO OR RAFZIYO NE BHI POHNCHAYA. ​

UNHO NE JO RIWAYATEIN ​ BYAN KI HAIN IN ME SE AIK BHI SEHAT K SATH SABIT NAHI KI JA SAKTI K YE HADEES-E-R​ASOOL (S.A.W) HAIN.

SHAB-E-BAR​AT KI RIWAYAT KA TALUQ HADITHS K 3RD & 4 TH DARJEY SE HAI OR YE TAMAM RIWAYAT HADEES KI 3 RD YA 4 TH TABQAY KI KITABO ME PAEE JAATI HEIN YA KUTAB-E-TA SSAWUF OR BAZ TAFASEER ME MILTI HEIN.

SHAB-E-BAR​AT SE MUTALIQ JITNI BHI RIWAYAT GHUNYATUTTALIBEEN ME PAEE JATI HEIN ABU NASAR OR HAT BULLAH SE MARWI HEIN.

IN RIWAYAT ME BHI BAHIMI TAZAD HAI,JIS SE YE SHUBA PEDA HOTA HAI K GHUNIYATUTTALIBEEN SEREY SE SHIKH ABDUL QADIR JILANI KI TASNEEF HI NA HO.

SEHIKH ABDUL QADIR JILANI KI DOOSRI KITAB FATHA-UL-G​HAIB ME BHI HADEES KA YAHI HAAL HAI.

PEHLY OR DOOSRY TABQAY ME IN KA KAHIN WAJOOD NAHI.

TEESRY TABQAY ME BHI SIRF IN KITABO ME YE RIWAYAT PAEE JATI HEIN JIN K MUSANNIF NE AEHTIYAT SE KAM NAHI LIYA.

HAZRAT AYESHA (R.A) SE AIK RIWAYAT MARVI HAI: AIK RAAT RASOOL (SAW) UTHAY, KAPRAY PEHNY OR GHAR SE BAHAR TASHREEF LE GAYE. MAINE (HAZRAT AYESHA (R.A)) APNI BANDI BAREEDA KO PEECHA KARNY KA HUKUM DIYA. IS NE AAP (S.A.W) KA PEECHA KYA, HATTA K AAP (S.A.W) BAQI TASHRIF LE GAYE.

IS K BAD 1 KINARY PER JAB TAK ALLAH NE CHAHA AAP(S.A.W) KHADE RAHE, IS K BAAD WAPIS HUWE.BAREEDA PEHLY WAPIS AGAYEE.

IS NE MUJ SE TAMAM WAQYA BYAN KYA. MENE SUBA TAK TO HUZOOR (S.A.W) SE KISI BAT KA ZIKAR NAHI KIA, SUBAH AAP (S.A.W) SE WAQYA BYAN KYA. AAP ( S.A.W) NE FARMAYA MUJE IS LIYE BHEJA GYA THA K MAIN AHL BAQI KI SALWAT O JANAZA PADHU, YA IN K LIYE DUA-E-MAGH ​FARAT KAROON.

JAB ​ K SURA TOBA ME HAI

"NABI KO OR IN LOGO KO JO EMAN LAYE HEIN ZEBA NAHI HAI K MUSHRIKO K LIYE MAGHFIRAT KI DUA KARIN CHAHE WO IN K RISHTEDAR HI KYO NA HON

(AYAT 183).

ABU MOHIYA SE RIWAYAT HAI; MUJE (YANI RASOOL (SAW)) HUKUM DIYA GYA THA K MAIN AHLE BAQI K LIYE DUA-E-MUGH ​FARAT KARUN IS LIYE MAE IN K LIYE DUA-E-MUGH ​FIRAT KARNA CHAHTA HOON. PHIR AAP (S. A.W) BAQEE TASHREEF LE GAYE OR AHLE BAQI K LIYE DUA-E-MUGHFIRAT KARNY K BAD FARMAYA...

FARMAYA! AE ALLAH TU NE MUJE IKHTIYAR DIYA HAI YA TOU MAE DUNYA K KHIZANY OR IS KI DIWAMI ZINDAGI PASAND KAR LOON YA PARWARDIGA​R SE MULAQAT PASAND KAR LOON. MAINE APNE PARWARDIGAR KI MULAQAT KO PASAND KYA.

ISI RAT K BAD SUBAH AAP (S.A.W) KO WO TAKLEEF SHURU HOWEE JIS ME AAP (S. A.W) IS WAFAT HOWEE.

GOYA YE WAFAT SE 5 ROZ QABL KA WAQYA HAI, YANI AGAR RASOOL (S.A.W) KI WAFAT 9 YA 12 RABI UL AWAL KO HOWI TO BAQI ME JAANE KA WAQYA SAFAR K MAHEENY ME HOWA HOGA, OR IS SE PEHLY RASOOL (SAW) KABHI RAAT KO BAQI TASHREEF NAHI LE GAYE THY.

IS SE YE BAT WAZAH HOJATI HAI K SHAB-E-BAR​AT OR BAQEE KI KAHANI SAR A SAR JHOOT OR FARAIB HAI.

AURTON ​ K LIYE QABRISTAN JANY KI MUMANIYAT HAI, AESI SOORAT ME YE DAWA K UMM UL MOMINEEN (R.A) BAQEE TASHREEF LE GAYEIN THEIN AIK KHULA TABAARA HAI.

SHEIKH ABDUL QADI JINAL (WAFAT 561 H) NE HAZRAT AYESHA (R.A) KI 1 RIWAYAT IS SANAD SE NAQAL KI HAI: HUMAIN ABU NASR BIN MUHAMMAD NE KHABAR DI, WO APNY BAP (ABU ALI AL HUSSAIN) SE RIWAYAT KARTA HAI , WO APNI SANAD SE HASSHAM BIN ARWA SE

WO HAZRAT AYESHA (R.A) IS TARHA HAMEN ABU NASR K BAP NE HASSHAM TAK KO SANAD BYAN NAHI KI, HALAN'K IN DONO K DARMYAN 350 SAL KA FARQ HAI RIWAYAT YUN HAI

"RASOOL (S.A.W) ROZE RAKHTY HATTA K HUM KEHTY K AB AAP (S.A.W) AFTAAR NA FARMAEIN GE OR JAB AAP (S.A.W) AFTAR KARTY TO HUM KEHTY K AB AAP (S.A.W) ROZY NA RAKHIEN GE. OR AAP (S.A.W) KO SHABAN ME ROZY BOHT MEHBOOB THY. MAE ( HAZRAT AYESHA (R.A)) NE ARZ KIYA YA RASOOL (S.A.W) KIYA BAAT HAI K MAIN AAP (S.A.W) KO SHABAN ME BOHT ROZY RAKHTY DEKHTI HOON AAP (S.A.W) NE FARMAYA AE AYESHA YE AISA MAHINA HAI JIS ME IS SAAL MARNE WALO K NAAM LIKH KAR MALAK UL MOT KO DIYE JATY HEIN OR MAIN YE MEHBOOB RAKHTA HOON K JAB MERA NAAM LIKH KAR DIYA JAYE TO MAIN HAALAT ROZA ME HOON.

ABU NASR K WALID K KEHNA HAI KA HASSHAM NE YE RIWAYAT HAZRAT AYESHA (R.A) SE NAQAL KI HAI, JAB K HASSAM KI PEDAISH HAZRAT AYESHA (R.A) KI WAFAT K 3 YA 4 SAL BAAD KI HAI.

TIRMIZI ME HI HAZRAT ABU HARERA (R.A) SE RIWAYAT HAI K RASOOL (S.A.W) NE IRSHAD FARMAYA K

"JAB NISF SHABAN HOJAYE TOU ROZY NA RAKHO"

YE AIK ATAL HAQEEQAT HAI K SAB SE AFZAL RAAT LAIALATUL QADAR KI HA.

IS RAAT K LIYE NA TOU KISI QISM KI KOI HADEES HA OR NA HI IS KI KOI DATE MENTION KI GAYEE HAI TA K LOG IS PER BHAROSA KAR K ZINDAGI BHAR KA AMAL TARK NA KAR DEIN. OR SHAB-E-BARAT QATAEE MENTION KAR DIYA GYA OR IS SHAB KA ILM HAR AIK KO HO GYA.

AGAR IS SHAB KI KOI FAZEELAT HOTI TOU ISY BHI KHUFYA RAKHA JATA, JIS TARAH LAILATUL QADAR KO RAKHA GYA.

SHEIKH ABDUL QADIR JILANI (R.A) NE BAZ GUMNAM ULMA KA AIK FATWA BHI NAQAL KYA HAI JO IS TARHA HAI:

BAAZ ULMA NE IN RATO KO JAMA KYA HAI JIN ME SHAB BEDARI MUSTAHIB HAI AESI RATIEN SAL MAE 14 HEIN.

1.MOHARRAM KI PEHLI RAT,

2. SHAB-E-AAS ​HOORA

3. RAJAB KI PEHLI RAT

4. SHABAN KI 15 SHAB,

5. SHAB-E-ARF ​A,

6. SHAB EID UL FITR,

7. SHAB EID UL AZHA,

8. RAMZAN KI 5 RATIEN AKHRI ASHRY KI

MUKHTASIR YE K SHAB-E-BARAT K MUTALIQ JITNI BHI RIWAYAT HEIN WO SAB MOHADASEEN ​ K NAZDEEN MOZU OR MUNKIR HEIN,

INME SE 1 BHI RIWAYAT AESI NAHI JIS PER ETAMAD KYA JASAKY.IBTADA ME TO IS QISAM KI RIWAYAT 1 KAHANI KI HESIYAT RAKHTI THI LEKIN BAD ME AANEY WALY SOOFYA NE IS PER MAZEED HASHIYE CHARHA KAR ISY DEEN KA AMAL BANADIYA OR BAAD K AANE WALE ANDHE MUQLEDEEN NE IN SOOFIYA KI KITABO KO DEKH KAR YE TASSAWUR KAR LIYA K SHAB-E-BAR​AT BHI DEEN KA KOI EHM RUKAN HAI. JIS KA TARK GUNAH HAI, HALAN'K YE SAB RIWAYAT FIRQA BATILA KI WUZA KARDA THI.

YOUSUF KOKAN UMRI

"SEERAT IBNE TEMIYA" MA LIKHTY HEIN

"IN RATO ME HAR GHAR ME HALWY PAKAYE JATY OR MASJIDO ME ROSHNI KA INTIZAM HOTA, SEHAN MASJID OR AETARAF ME BAZAR LAGTA HAR QISAM K BADMASH JAMA HOTY, THELAY WALY MASJIDO ME SADA LAGATY. AURATIEN BHI ZARQ BARQ LIBAS PEHN KAR OR PERFUME (ITAR) LAGA KAR NAMAZO ME SHAREEK HOTI,15 SHABAN KO KHAS TOR PER AURATIEN ZYADA AATI OR MAZARO PAR BHI HAZRI DETI.

GOYA SOFYA OR SUNNI HAZRAT NE FIRQA BATIL KI EID- E-GHADEER KI NAQAL ME 1 NEW EID EJAD KAR LI.

HAR DOUR ME ULMA NE IN BIDAAT KO BAND KARNY KI KOSHISH KI MAGAR AWAM KI AQEEDAT KUCH AESI THI K WO BAND HO HO KAR PHIR JAARI HOTI RAHIEN.

JESA K BYAN KYA JA CHUKA HAI K SHAB-E-BAR​AT K MOJID SHEA THY OR YE LAFZ TO SIRF DHOKA DENY K LIYE ISTAMAL KYA GYA WARNA DARASAL YE SHAB TABBARA THI,

SHEAYO NE SUNNYO KO DHOKA DENY K LYE IS K FAZAIL ME RIWAYAT WUZA KAR K PHELAEIN YAHI WAJA HAI MOJOODA DOR K SUNNIYO PER SHEAAT KA GHALBA HAI.

15 TH SHABAN KI TAKHSEES IS LIYE HA K SHEAYO K 12 TH IMAM KI WILADAT MUBAYYAN TOR PER IS RAAT KO HOWEE THI, SHAB-E-BAR​AT ME AATISH BAZI KI JO MAZMOOM RASAM RAIJ HAI WO MAJOOSI ASR KA KHULA SABOOT HAI.

IRAN K AIK AIK SHEHAR ME AATISH KADY BANY HOWY THY JO HAZRAT UMAR (R.A) OR HAZRAT USMAN (R.A) KI ZAMANY ME THANDY KIYE GYE.

BAAZ LOG KEHTE HAIN SHAB-E-BAR​AT SE PEHLY KOI MAR JAYE TO JAB TAK IS K LIYE FATIHA SHAB-E-BAR​AT NA KYA JAYE WO MURDO ME SHAMIL NAHI HOTA YANI IS KI ROOH BHATAKTI PHIRTI HAI,

JO KHALIS HINDUO KA AQEEDA HAI,

YE SAB BAATEN JAAHIL MULLAO KI KHUD SAKHTA HAIN JIN KA HAQEEQAT ME KOI WAJOOD NAHI.

MOLANA ASHRAF ALI THANVI APNI KITAB "ISLAH AR RASOOM" ME LIKHTY HEIN K

"MUNJAMLA IN RASOOM K SHAB-E-BAR ​AT KA HALWA OR EID KI SAWAYAN OR AASHOORA MOHARRAM KA KHICHRA OR SHARBAT WAGHERA HAI, SHAB-E-BARAT ME HADEES SE IS QADR SABIT HAI K RASOOL (S.A.W) BA HUKUM ALLAH TALA JANNAT UL BAQEE TASHREEF LE GAYE OR AMWAT K LIYE ASTAGHFAR FARMAYA, IS SE AAGY SAB BIDDAT HAI"

(SPELLING MISTAKE K LIYE SORRY)

ALLAH HUMAIN IS HAQEEQAT KO SAMAJNY KI TOFEEQ ATA FARMAYE (AMEEN)

GUM'SHUDA SHAUHAR KA MASLA





Bismillahirrahmanirraheem 




GUM'SHUDA SHAUHAR KA MASLA




Gumshuda shohar ka masla -Ahnaaf ka Ahle sunnat se Ikhtelaaf
 


Jis Aurat ka Shohar gum ho jaye shariyat me is ka kia hukm hai yani woh apne shohar ka intezar kitni muddat tak karke dusra nikah kare gi.???? 
 



Ahnaaf ka Maslak
 



Ahnaaf ka fatwa bada ajeeb, pecheeda,dard naak aur nehayet na qabil amal hai.

Hedaya me Markuz hai.
 


" Hasan kahte hain ke imam abu hanifa ne farmaya jab gumshuda shakhs ek sau bess (120) baras ki umar ko pohach chuke to hum qarar denge ke woh mar chuka hai.(Musannif hedaya ke mutabiq) Is hukm me dar asal gumshuda shakhs ke hum umaron ki maut ke andaza ke liye laazim hai.Hazrat Qazi abu yusuf ki rawait ke mutabiq intezar-e-muddat 120 baras tak hai aut baaz foqha ne intezaar ki muddat 90 baras batai hai aur fatwa bhi isi par hai"
 


(Aenul Hedaya jild 2 babul Mafqud safha 261)
 


Isi Tarah ka Masla Behashti Zewar me bhi mojud hai.jis me 90 baras tak intezar karna zaruri bataya gaya hai.

(BehashtiZewar-Hissa chaharum(4)-Shohar ke gum ho jaane ka bayan)
 


Yeh dardnaak hai ya Lateefa????
 


Ab is surat haal ko dard naak kaha jaye ya lateefa ke 18 baras ki umar me ek khatoon ka shohar gum ho jaata hai.Shohar ki umar us waqt 20 se 30 baras maan li jaye.Ab yeh khatoon apne gumshuda shohar ko 120 ki umar tak pohchane ke liye pure 100 baras ya 90 baras intezar kare gi aur is muddat me aurat ki umar 110 se 120 baras tak pohach jaye gi.Phir jab is ke muh me daant aur pet me aant ka jhagda khatam ho chuke ga to fiqh-e-hanfi use dulhan banne ki ijazat de degi.

Hanfi Fiqh ke Mufti sahab ab use hidayat kare ge Dadi Amma aapapni barat mangwaaane ke liye Azaad hain.
 


Raham Dili par Apni HatDharmi Wahi ki Wahi
 


Kuch zamana guzar jaane ke baad Kuch hanfi Mullaon ne is aurat ki be basi par raham aaya to unho ne use 120 se hata kar 90 baras tak adiyan ragad ragadkar mar jaane ke azaab se nijaat dilane ke liye yeh raasta ikhteyar kia ke is masla me fiqh hanfi ke fatwe ko tark karke Imam Malik ke mazhab par amalkia jaye aur gumshuda shohar ke liye Hanfi khawateen ko bhi ijaazat de di jaye ki apne gumshuda shohar ka chaar 4 saal tak intezaar kare.Agar woh is muddat me na lote aur na us ki koi khabar mile to woh Iddat 4 maah 1o din guzaar kar Nikaah kar sakti hai.
 

(Radul Mukhtar allama Shami,Umdatul Reyaya Maulan Abdul Hai Lakhnavi)
 

Magar sawal yeh hai ki is surat me fiqh Hanfi ka kia bana.??

Is ka Fatwa kia hua. ??? 

Agar fiqh hanfi ka fatwa sahih tha to use tarak kiu kia gaya aur ghalat tha to use moakhar kiu kia gaya,use mansukh kiu nahi kia gaya???
 

Is ka maana yeh hua ke Hanfi Buzurgon ne sirf jag hasai se bachne ke liye hi yeh surat Qabul ki hai.
 

Ahle Hadis Ka Maslak
 

Ahle hadis ka maslak Wazah hai khatoon apne shohar ki gumshudgi ki tarikh se char 4 baras tak intezaar kare aur biwi ki iddat 4 maah 10 din pure karke dusra Nikaah ke sath apni zindagi sanwaar sakti hai.
 

Ahle Hadis ki dalil Hazrat Umar bin Khattab ka woh irshad hai jo 

hazratSaeed bin Mussayib ki rawayat Moatta Imam Malik me Mojud hai.Hazrat Saeed kahe hai Hazrat Umar ne Farmaya
"Ke jis aurat ka Shohar gum ho jaye aur use koi pata maloom na ho woh 4 baras tak intezaar kare phir 4 maah 10 din guzaare aur Hasbe pasand Nikah Kare"
 

(Moatta Imam Malik 2/70)
 

Hazrat Imam Malik ka fatwa bhi isi par hai aur Imam Shafai ne bhi isi ko Ikhteyar kia hai.Aur zahir hai ke yeh ek Nehayat Mukhtasar aur Qabil Amal rasta hai.


EIDI CARDS AUR BHOOK KI AWAAM













Bismillahirrahmanirraheem



EIDI CARDS AUR BHOOK KI AWAAM: ( DR. Abu hayaat Ashraf)



Jab main paida hua toh Usmani sultanate (ottoman empire) khatm ho chuki thi,

dusri jung azeem ( 2nd world war) jaari thi, yahudi saazish kaamyaab hogayi thi, pelestine haath se ja raha tha, aur Israel ka qayam na'ghazeer tha,

jaise taise bachpan guzra ke watan me akaal (drought) pada tha,

Americans aur Australians log hamdardi dikhaate aur khushk dhoodh ( dry milk ) wa gehun bhejte they, wah Charity me bheek dete aur Insaaniyat ka naam lete they,

kuch Arabon ko bhi Raham aaya aur hamari masoomiyat par rona aaya, Iraq ne Khajoor bheja aur Saudi shah ne Chawal (rice) bheja, ye silsila maheeno chala,

Ration se khajoor takseem hoti thi aur boriyon par likha hota tha,

" Iraaqi awaam ki taraf se Hindustani awaam ke liye--- Muhabbat wa Khulus ke saath "

ham log line lagaate aur ration ka khajoor paate, yani



" Iraaqi awaam ki taraf se Hindustani awaam ke liye--- Muhabbat wa Khulus ke saath "


line todne par Daant padti aur naazuk badan par dande khaate, kyonke ham line me faryadi hote, aur khajoor paakar raahat mahsus karte they, un khajooron ka maza aaj bhi yaad hai, kyonke wah muft milte they, bhookh ke waqt bat'te they, aur nek niyati se diye jaate they,

Toh janab ! Main america ka dhoodh pee kar pala badha, Australia Ka gehun kha kar jawab hua aur Iraaqi Khajoor kha kar samjhdar hua,

main rasmi baaton se katraata hun aur Eidi cards se bhaagta hun,

Naye saal ki mubarakbaad se parhez karta hun, aur Birth'day party se alag rahta hun,

lekin aalam peeri ka mijaaz alag hota hai, taaqat jawab de jaati hai, Sabr ka maadah kam ho jaata hai, Yaadein chutkiyan leti hain aur neki ka jazbah badh jaata hai,

Is baar mujhe dhoom dhaam se eid manaane ka shauq hua, eidi cards bhejne aur khushiyan manaane ka Khayaal aaya, mujhe sirf do eidi card khareedne they, ek Iraaqi Awaam ke liye aur Dusra Khadim ul haramain ke liye.......

Iske liye mahino se pai pai joda........


YAHUDI SAAJISH AUR IRAQI AWAAM:


Yahudi ek saajishi qaum hai, ayyari aur jhoot ke liye mashoor hai, yahudi mufaad ke liye daulat baat'ti hai aur zaati gharz ke liye Husn Lutaati hai, apni nasl ko aata bataati hai, aur Yahudi zihaanat ka sikka chalaati hai, hazaaron baras duniya me bhatki ab pelestine par jabar'dasti qaabiz hai,

1874 CE me pelestine ke baaz ilaaqe khareedne ki dar'khwaast ki, Usmani hukumat ne mana kar diya,

1882 CE me pelestine hijrat karne ki ijaazat maangi , jo shakhti se radd kar diya gaya,

1888 CE me usmani hukumat ne qawaneen jaari kiye  taake yahudion ka daakhila na'mumkin rahe,

Sultan abdul hameed, yahudion ke shakht mukhaalif they, unhen pelestine se door rakhna chahte they, apni diary me likhte hain


" ham qudus ko kyon chhoden, ye har daur aur har zamana me hamara mulk raha hai, mustaqbal me bhi hamara rahega, ye hamare muqaddas shahron mese ek hai, aur aalam e islam me waaqe hai, lihaaza zaroori hai ke qudus par hamesha hamara qabza ho"

(pelestine Sazishon ke narge me page 183 )


Yahudi saazishon ne 1909 CE me sultan abdul hameed ko raaste se hata diya, baad ke usmani hukmaran, yahudion ke haathon khilona ban gaye,

2nd world war, yahudi saazish ka nateeja thi, taake pelestine par unka qabza ho aur yahudi mulk ka qayam mumkin ho,

15 may 1948 me Pelestini saahilon par unka qabza hogaya, muslim duniya ikhtelaafaat ka shikaar rahi aur britain ki husn niyat par eitemaat karti rahi,

pelestini jung e azaadi ke liye kood pade, 1948 CE ki sarkari jung, 1967 ki 6 rozah jung aur 1973 ki arab- israel jung, isi ka hissa thi,

baad ke waqeyaat wa haadsaat yahudi saajish ka nateeja ban gaye, jaise Kemp dude Treaty 1979 , iran - iraq ki jung 1980, lebanon ki tabaahi 1982,

Iraq ki Kuwait par chadhaayi 1990CE, Oslo treaty, Iraq ke khilaaf ameriki jung wa naake'bandi 1991, madrid conference 1993, etc...... Ye saare muwahede wa haadsaat taareekhi almiye hain aur yahudi saajishon ka nateeja thin, aur hain jinhe maghribi mumalik ne hawa di aur aalam e islam ne mahsoos nahin kiya..,


EIDI CARDS AUR BHOOK KI AWAAM:


Is saal eid wa naye saal ke mauqe par mujhe Iraaqi bachon ki yaad aayi jinke hont dhoodh ke liye taras gaye hain, majboor aurton ka khyaal aaya jo bhook se nidhaal ho chuki hain, pareshaan maayen yaad aayin jin ke dhoodh khusk ho chuke hain,
wah ladkiyan yaad aayin jinki jawaaniyan dhatoore ka phool ban gayi hain, dajla ke machhu'are yaad aaye jo dariyai Khuraak par zinda hain, Furaat ke mallah yaad aaye jo bheekh maangne par majboor hain,

woh bache yaad aaye jo Israeli aur  ameriki jahazon ke Giraaye hue bamo se maare gaye, aur wah bache bhi yaad aaye jo Ameriki jahaazon par gulel chalaate hain,

Mujhe yaad aaya ki  Iraqi Awaam be'kasoor hain, wahan ki aurtein Mazloom Hain, wah masoom bache yahudi saajish ka shikaar hain,

Maine ahad kar liya ke is baar Iraqi Awaam ko mubarak'baad bhejunga, bachpan me unka khajoor khaaya hai, Ehsaan ka badla eidi cards Se chukaaunga,

Eid ka mauqa tha, mujhe khadim ul haramain bhi yaad aaye, unki sakhaawat aur khidmaat ka dhyaan aaya,

Qur'an kareem ki muft taqseem qaabil e tareef hai, mujhe unki azeem neki ka aitraaf hai,

Iraada kiya ke unhen bhi Eidi Card Bhejunga aur Shahi register me naam darj karaaun, shah faisal Award Ke liye ummeed'war banu, kya pata ke inaam ka qur'a mere naam hi nikal aaye, aur eidi card iska zariya ban jaaye,


Chunanche main Urdu bazaar pahuncha, Eidi Cards ki dukaanein saji dhaji thin, har rang, size, aur design ke cards acche  Lag rahe they, wahan hare (green) aur laal (red) huruf waale eid mubarak ke cards they,

sunehri taba'at waale eid mubarak ke cards they,

doston ke liye cards alag they, muhabbat karne walon ke liye alag they,

pardes rahne walon ke liye alag they, waalidain ke liye alag aur bhai bahno ke cards alag they,

baaz cards par urdu ash'har they, baaz par Angrezi ash'haar they, baaz par Chand taare bane hue they, aur baaz par khajoor ka darakht chhapa hua tha,

baaz cards par Qur'an shareef ki tasweer thi, baaz cards par Surah likhi hui thi, kuch cards par Dil bana hua tha, baaz cards par khaana e kaaba ki tasweer bani hui thi,

kuch cards par masjid e nabwi ki tasweer thi, kuch cards par masjid e aqsa bani hui thi, aur baaz par tajmahal chhapa hua tha,

cards ki keematein bhi alag alag thi 5 rupaiy se lekar 125 tak,

Dukaandaar Cards Dikhaata Raha Aur Main Apni Zeb Tatolta raha....


Achaanak Zameer ne awaazDi,


1- Kiya tumhara Eidi card Iraqi awaam ki bhookh mita dega ?? Unhen Eidi card ki nahin, Ration aur Dhoodh ki zarurat hai,

2- Kya tumhara Eidi card Khadim ul haramain ki azmat me 4 chand laga dega ?? Aur na bhejne ki soorat me unki sakhaawat me kami aayegi ??

Unhe Eidi cards ki nahin , tumhari duaon ki Zarurat hai,


Meri aankhon me aansu aagaye, main musalmano ki azmat ki tamanna karta, yahudi saajish se bachne ki dua karta, aur Eidi card ka ek Ash'haar Gungunaata hua aage badh gaya,


" Sar'bulandi kar ata Islam ko,

Bas yahi maula hamari Eid hai "



( Dr. Abul Hayat Ashraf )

Monday, October 22, 2012

HARSH REALITY OF MALALA.









Many innocent children have been killed by Americans in Drone Attacks and various other attacks in the name of war against terr

orism.. do we really know their names ????

nopes


we dont know because media has not shown us.


The situation of Muslims is so pathetic now a days that we only see what media tries to show us. They ae maligning the image of Muslims and we are just supporting them.. :(


Malala outrage was so enhancely and effectively carried out by media that we all started to file a negative scope in or eyes towards Taliban..


But do you know that on the same day an Afghan Muslim girl was raped and brutally murdered by american army????


This news didnt touch the media at all why?????


Malala's blood and that Afghan lady's blood was different!!!!!


The only difference is that Malala was attacked by a muslim and whereas Afghan girl was murdered by an american... Where is our conscience????


Crime is a crime!! whether it is done by a muslim or non muslim...!!!


So please check out the media propoganda!!

They just want to use our name and malign the image of muslims..

Thats all!!!

मुसलमान लोग यह गुमान क्यों करते हैं कि उन्हीं का धर्म सच्चा है? क्या उनके पास इसके संतोषजनक कारण हैं?

मुसलमान लोग यह गुमान क्यों करते हैं कि उन्हीं का धर्म सच्चा है? क्या उनके पास इसके संतोषजनक कारण हैं?

हर प्रकार की प्रशंसा और स्तुति अल्लाह के लिए योग्य है।

प्रिय प्रश्नकर्ता,

शुभ प्रणाम के बाद,

पहले पहल तो आप का प्रश्न एक ऐसे व्यक्ति की तरफ से जो इस्लाम धर्म में प्रवेश नहीं किया है उचित प्रतीक होता है, किन्तु जो आदमी इस धर्म को व्यवहार में ला चुका है, इसके अंदर जो चीज़ें हैं उन पर उसका विश्वास और आस्था है और वह उस के अनुसार कार्य कर रहा है, तो उसे पूर्णतया उस नेमत की मात्रा का पता है जिस में वह जीवन यापन कर रहा है और वह इस धर्म की छत्र छाया में रह रहा है, इसके बहुत सारे कारण हैं जिन में से कुछ निम्नलिखित हैं :

1- मुसलमान केवल एक मा’बूद (पूज्य) की उपासना करता है जिसका कोई साझीदार नहीं, जिसके सुंदर नाम और उच्चतम गुण हैं। चुनाँचि मुसलमान की दिशा और उसका उद्देश्य एक होता है, वह अपने पालनहार और सृष्टिकर्ता पर विश्वास रखता और उसी पर भरोसा करता है, और उसी से मदद, सहायता और समर्थन मांगता है, वह इस बात पर विश्वास रखता है कि उस का पालनहार हर चीज़ पर सक्षम और शक्तिवान है, उसे बीवी और बच्चे की आवश्यकता नहीं है, उस ने आसमानों और धरती को पैदा किया, वही मारने वाला, जिलाने वाला, पैदा करने वाला और रोज़ी देने वाला है। अत: मुसलमान बन्दा उसी से रोज़ी मांगता है। वह अल्लाह सुनने वाला क़बूल करने वाला है, अत: बन्दा उसी को पुकारता (दुआ करता) और क़बूलियत की आशा रखता है। वह अल्लाह तौबा स्वीकार करने वाला, क्षमा करने वाला दयावान् है अत: बन्दा जब पाप करता है और अपने रब की इबादत में कोताही करता है, तो उसी के सामने तौबा करता है। वह अल्लाह सर्वज्ञानी, सब चीज़ों की सूचना रखने वाला, और देखने वाला है जो कि दिल की इच्छाओं, भेदों और सीने की बातों को भी जानता है, अत: बन्दा गुनाह के पास जाने से शर्म करता है और अपने नफ्स पर या किसी दूसरे पर ज़ुल्म नहीं करता है, क्योंकि वह जानता है कि उसका पालनहार उस से अवगत है और उसे देख रहा है। वह जानता है कि उस का रब हकीम (तत्वदर्शी) है, ग़ैब (प्रोक्ष) की बातों का जानने वाला है, अत: जो कुछ अल्लाह ने उसके लिए चयन किया है और उस के बारे में मुक़द्दर किया है, उस पर विश्वास और भरोसा करता है, और इस बात को मानता है कि उसके रब ने उस पर ज़ुल्म नहीं किया है, और उस ने उसके लिए जो भी फैसला किया है वह उसके लिए बेहतर है, अगरचे बन्दे को उसकी हिकमत (तत्वदर्शिता) का ज्ञान न हो।

2- मुसलमान की आत्मा पर इस्लामी उपासनाओं के प्रभाव : नमाज़ बन्दा और उसके पालनहार के बीच संपर्क का एक साधन है, जब वह विनम्रता के साथ नमाज़ में प्रवेश करता है तो सुकून (शान्ति), इत्मेनान (संतुष्टि) और आराम का अनुभव करता है, क्योंकि वह एक मज़बूत स्तंभ का शरण लेता है और वह अल्लाह अज्ज़ा व जल्ल है, इसीलिए इस्लाम के पैग़म्बर मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम कहा करते थे : हमें नमाज़ के द्वारा राहत पहुँचाओ, और जब आप को कोई मामला पेश आता था तो आप नमाज़ की तरफ भागते थे। हर वह आदमी जो किसी मुसीबत में पड़ गया और नमाज़ को आज़माया तो उसे जो मुसीबत पहुँची है उस से ढारस (सांत्वना) और धैर्य की सहायता का अनुभव हुआ है। इस का कारण यह है कि वह नमाज़ में अपने रब के कलाम (वाणी) को पढ़ता है और रब के कलाम (वाणी) के प्रभाव की तुलना किसी मनुष्य के कलाम के प्रभाव से नहीं की जा सकती। जब कुछ मनोवैज्ञानिकों के कलाम से कुछ राहत मिल सकती है तो जिसने मनोवैज्ञानिक को पैदा किया है उसके कलाम का प्रभाव कितना व्यापक होगा।

और जब हम ज़कात की ओर आते हैं जो कि इस्लाम का एक स्तंभ है, तो वह आत्मा को कंजूसी और लालच से पाक करने, दानशीलता की आदत डालने, गरीबों और ज़रूरतंमदों की सहायता करने के लिए है और एक अज्र व सवाब है जो अन्य इबादतों के समान क़ियामत के दिन लाभ देगा, मानव द्वारा लगाये जाने वाले करों के समान कठोर और बोझ नहीं है, यह एक हज़ार (1000) में केवल 25 है जिसे एक सच्चा मुसलमान इच्छापूर्वक अदा करता है, वह उस से भागता नहीं है, यहाँ तक कि अगर कोई उसके पीछे लगने वाला न हो।

जहाँ तक रोज़ा का संबंध है तो वह अल्लाह की उपासना के स्वरूप खाने पीने की चीज़ों और संभोग से रूक जाना है, और इस में भूखे और वंचित लोगों की भावनाओं का एहसास होता है, तथा सृष्टि पर सृष्टिकर्ता की नेमतों को याद दिलाना है तथा इस में अनगिनत अज्र व सवाब (पुण्य) है।

अल्लाह के पवित्र घर का हज्ज (तीर्थ यात्रा) जो इब्राहीम अलैहिस्सलाम के द्वारा बनाया गया था, यह अल्लाह के आदेश का अनुपालन, दुआ की क़ुबूलियत और दुनिया भर के मुसलमानों से मिलने का शुभ अवसर है।

3- इस्लाम ने प्रत्येक भलाई का आदेश किया है और प्रत्येक बुराई से रोका है, सभी आचरण व व्यवहार और शिष्टाचार का ओदश दिया है, जैसे सच्चाई, विवेचना, सहनशीलतान विनम्रता, नम्रता, नरमी, शर्म व हया, वादा पूरा करना, गरिमान दया, न्यायन साहसन धैर्य, मित्रता, सन्तुष्टि, सतीत्वता, शुद्धता, एहसान व भलाई, आसानी, विश्वस्नीयता (अमानतदारी), एहसान वा भलाई का आभारी होना, क्रोध को दबा लेना (गुस्सा पी जाना)। तथा माता-पिता के साथ सदव्यवहार करने, रिश्तेदारों के साथ संबंध बनाये रखने, पीड़ितों और ज़रूरतमंदों की मदद करने, पड़ोसी के साथ अच्छा व्यवहार करने, अनाथ की संपत्ति की रक्षा और उसकी देख-रेख करने, छोटों पर दया करने, बड़ों का सम्मान करने, नौकरों और जानवरों के साथ कोमलता बरतने, रास्ते से हानिकारक और कष्टदायक चीज़ों को हटाने, मीठी बोल बोलने, बदला लेने की ताकत के बावजूद माफ कर देने, एक मुसलमान का अपने मुसलमान भाई के प्रति शुभ चिंतक होने और उसे नसीहत करने, मुसलमानों की आवश्यकताओं को पूरा करने, क़र्ज चुकाने में असमर्थ व्यक्ति को मोहलत (छूट) देने, अपने ऊपर दूसरे को वरीयता देने, ढारस बंधाने और दिलासा देने, हँसते हुए चेहरे के साथ लोगों का अभिवादन करने, पीड़ित की मदद करने, बीमार का दौरा करने, अत्याचार से ग्रस्त लोगों की सहायता करने, दोस्तों को उपहार देने, मेहमान का मान सम्मान करने, पत्नी के साथ अच्छा रहन सहन करने, उस पर और उसके बच्चों पर खर्च करने, सलाम को फैलाने, अन्य व्यक्ति के घर में प्रवेश करने से पहले अनुमति लेने का आदेश किया है ताकि आदमी घर वालों के निजी और पर्दा करने की चीज़ों को न देखे।

जब कुछ गैर मुस्लिम इन में से कुछ चीज़ों को करते हैं, तो वे ऐसा केवल सामान्य शिष्टाचार के रूप में करते हैं, किन्तु उन्हें अल्लाह से बदले, पुण्य और प्रलय के दिन कामयाबी और सफलता की आशा नहीं होती है।

जब हम उन चीज़ों की तरफ आते हैं जिन से इस्लाम ने रोका है, तो हम उन्हें व्यक्ति और समाज के हित में पाते हैं, सभी निषिद्ध बातें अल्लाह और बन्दे के बीच, तथा मनुष्य और स्वयं उसके नफ्स के बीच तथा मनुष्यों में से एक दूसरे के बीच संबंध की रक्षा करने के लिए हैं, उद्देश्य को स्पष्ट करने के लिए आईये हम ढेर सारे उदाहरण लेते हैं :

इस्लाम ने अल्लाह के साथ शिर्क करने और अल्लाह को छोड़ कर दूसरे की पूजा करने से रोका है, और यह कि अल्लाह के सिवा दूसरे की इबादत करना दुर्भाग्य और बिपदा है, तथा नुजूमियों और ज्योतिशियों के पास जाने और उनकी पुष्टि करने से रोका है, इसी तरह जादू से मना किया है जो दो व्यक्तियों के बीच जुदाई डालने या उनके बीच संबंध पैदा करने के लिए किया जाता है, लोगों के जीवन और संसार की घटनाओं में तारों और सितारों के प्रभाव के बारे में आस्था रखने से, ज़माने को बुरा भला कहने (गाली देने) से मना किया है क्योंकि अल्लाह ही ज़माने को उलट फेर करता है, तथा बुरा शकुन लेने से रोका है, क्योंकि यह अंधविश्वास और निराशावाद है।

इस्लाम ने नेकियों और अच्छे कामों को रियाकारी (दिखावा), शोहरत की इच्छा और किसी पर एहसान जतलाने के द्वारा नष्ट करने से रोका है।

अल्लाह को छोड़ कर किसी अन्य को सज्दा करने के लिए झुकने (शीश नवाने), मुनाफिक़ो (पाखंडियों) या फासिक़ों (पापियों) के साथ, उनसे मानूस होते हुये या उन्हें मानूस करते हुए, बैठने से रोका है।

तथा आपस में एक दूसरे को अल्लाह की फटकार, या उसके क्रोध, या नरक के द्वारा धिक्कार करने (ला’नत भेजने) से मनाही किया है।

स्थिर (ठहरे हुये) पानी में पेशाब करने, सार्वजनिक रास्ते, लोगों के छाया हासिल करने की जगहों और पानी के घाट पर शौच करने से रोका है, तथा पेशाब या पैखाना करते समय क़िब्ला (मक्का में अल्लाह के घर) की ओर मुँह या पीठ करने से रोका है, पेशाब करते समय आदमी को दाहिने हाथ से अपने लिंग को पकड़ने से रोका है, जो आदमी शौच कर रहा हो उस को सलाम करने से रोका है, तथा नींद से जागने वाले आदमी को बर्तन में अपना हाथ डालने से रोका यहाँ तक कि वह उसे धुल ले।

तथा सूरज के उगते समय, उसके ढलते समय और उसके डूबते समय नफ्ल नमाज़ पढ़ने से रोका है, क्योंकि वह शैतान की दो सींगों के बीच उगता और डूबता है।

तथा जब आदमी के सामने भोजन तैयार हो और वह उसके खाने का इच्छुक हो, तो उस हालत में नमाज़ पढ़ने से रोका है, इसी तरह आदमी को ऐसी स्थिति में नमाज़ पढ़ने से रोका है जब वह पेशाब, पैखाना और हवा (गैस) को रोक रहा हो, क्योंकि यह सभी स्थितियाँ नमाज़ी को अपेक्षित एकाग्रता और ध्यान से विचलित कर देती हैं।

तथा नमाज़ी को नमाज़ के अंदर अपनी आवाज़ को ऊँची करने से रोका है ताकि दूसरे मोमिनों को इस से कष्ट न पहुँचे, तथा जब आदमी ऊँघ रहा हो तो उसे क़ियामुल्लैल (तहज्जुद) को जारी रखने से रोका है, बल्कि उसे सो जाना चाहिए फिर उठ कर क़ियामुल्लैल करना चाहिए, इसी तरह पूरी रात जाग कर इबादत करने से रोका है विशेषकर जब यह निरंतर हो।

इसी तरह नमाज़ी को मात्र वुज़ू टूटने का शक हो जाने के कारण अपनी नमाज़ से बाहर निकलने से रोका है यहाँ तक कि वह हवा निकलने की आवाज़ सुन ले या बदबू महसूस करे।

मिस्जदों में खरीदने बेचने और गुमशुदा चीज़ का एलान करने से रोका है क्योंकि ये इबादत और अल्लाह के ज़िक्र के स्थान हैं, इसलिए इन में दुनियावी काम करना उचित नहीं है।

जब नमाज़ की जमाअत खड़ी हो जाये तो तेज़ चलकर आने से रोका है, बल्कि सुकून और वक़ार के साथ चलना चाहिये, इसी तरह मिस्जदों के विषय में आपस में गर्व करने और उसे लाल या पीले रंग, या चमक दमक की चीज़ों से सजाने और हर उस चीज़ से रोका है जो नमाज़ियों के ध्यान को बांट देते हैं।

तथा एक दिन के रोज़े को दूसरे दिन के रोज़े से उनके बीच में इफ्तारी किए बिना मिलाने से रोका है, इसी तरह महिला को अपने पति की उपस्थिति में उसकी अनुमति के बिना नफ्ली रोज़ा रखने से रोका है।

क़ब्रों पर निर्माण करने, या उसे ऊँची करने, उस पर बैठने, जूता-चप्पल पहन कर उनके बीच चलने फिरने, उस पर रौशनी करने, उस पर कोई चीज़ लिखने और उसे उखाड़ने से रोका है, इसी तरह क़ब्रों को मिस्जदें (पूजास्थल) बनाने से मना किया है।

तथा किसी आदमी के मर जाने पर नौहा करने (रोने-पीटने), कपड़ा फाड़ने, बाल खोलने से मना किया है, जाहिलियत के काल के लोगों की तरह मरने की सूचना देने से मना किया है, किन्तु किसी के मरने की मात्र सूचना देने में कोई हरज (आपत्ति) नहीं है।

तथा सूद खाना निषिद्ध है, तथा हर वह क्रय-विक्रय जो अज्ञानता, धोखा-धड़ी पर आधारित हो वह निषिद्ध है, खून, शराब, सुअर और मूर्तियाँ बेचने से मना किया है, तथा जिस चीज़ को भी अल्लाह तआला ने हराम घोषित किया है, उसकी क़ीमत भी हराम है चाहे उसे बेचा जाये या खरीदा जाये, इसी तरह नज्श से रोका गया है और वह यह है कि जो आदमी खरीदना नहीं चाहता है वह सामान की क़ीमत को बढ़ा दे जैसाकि बहुत सी नीलामी की बोलियों में होता है, इसी तरह किसी सामान को बेचते समय उसके ऐब को छिपाने से रोका है, इसी तरह आदमी जिस चीज़ का मालिक नहीं है उस को बेचना तथा किसी चीज़ को अपने क़ब्ज़े में करने से पहले बेच देना निषिद्ध है, इसी तरह आदमी का अपने भाई के बेचने पर बेचना, अपने भाई की खरीद पर खरीद करना, और अपने भाई के भाव ताव पर भाव ताव करना निषिद्ध है। फलों को बेचने से रोका है यहाँ तक कि उसका पकना ज़ाहिर हो जाये और आफत ग्रस्त होने से सुरक्षित हो जाये, नाप और तौल में कमी करने से, ज़खीरा करने से, तथा ज़मीन या खजूर के बाग इत्यादि में हिस्से दार को अपने शेयर को बेचने से मना किया है यहाँ तक कि उसे अपने साथी पर पेश कर दे, यतीमों के माल को जुल्म करके खाने से से रोका है, जुवा (लाटरी) का धन खाने से परहेज़ करने का हुक्म दिया है, लूट खसूट और जुवा से, रिश्वत (घूँस) लेने और देने, लोगों का माल छीनने, लोगों का माल अवैध रूप से खाने, इसी तरह उसे नष्ट कर देने के इरादे से लेने से मना किया है, लोगों की चीज़ों में कमी करने (हक़ मारने), गिरी पड़ी चीज़ को छिपाने और गायब कर देने, गिरी पड़ी चीज़ को उठाने से रोका है सिवाय इसके कि वह उसकी पहचान (ऐलान) करवाये, हर प्रकार की धोखा-धड़ी, ऐसा क़ज़Z लेने से जिसे चुकाने का इरादा न हो, इसी तरह अपने मुसलमान भाई का माल उसकी खुशी के बिना लेने से मना किया है, इसी तरह शर्म व हया के तलवार से लिया गया माल हराम है, तथा सिफारिश के कारण उपहार स्वीकार करने से रोका है।

ब्रह्मचर्य और बधिया हो जाने से मना किया है, रिश्तेदारी के संबंधों को तोड़ने के डर से दो सगी बहनों को एक साथ शादी में रखने तथा किसी औरत और उसकी फूफी को और किसी औरत और उसकी खाला को एक साथ शादी में रखने से मना किया है, "शिगार" नामी (अर्थात् अदले बदले की) शादी से रोका है, और वह इस प्रकार है कि उदाहरण के तौर पर आदमी कहे कि तुम मुझ से अपनी बेटी या बहन की शादी कर दो और मैं अपनी बेटी या बहन की शादी तुम से कर दूँगा, इस प्रकार यह औरत दूसरी के बदले में हो, तो यह अन्याय और हराम है। तथा मुत्आ (अस्थायी शादी) से रोका है, जो कि दो पक्षों के बीच पारस्परिक सहमति से एक निर्धारित अवधि तक के लिए होता है और अवधि समाप्त होने पर उस शादी का अंत हो जाता है। मासिक धर्म की अवधि में बीवी से संभोग करने से रोका है, बल्कि जब वह पवित्र हो जाये तो उस से सहवास करे, तथा औरत के गुदा (पाखाने के रास्ते) में संभोग करना निषिद्ध है, अपने भाई के शादी के पैग़ाम (प्रस्ताव) पर शादी का पैग़ाम (प्रस्ताव) देना निषिद्ध है यहाँ तक कि वह उसे छोड़ दे या उसे अनुमति दे दे, पहले से शादीशुदा (जैसे बेवा या तलाक़शुदा) औरत की शादी उसकी सलाह व मश्वरा के बिना और कुँवारी औरत की शादी उसकी अनुमति लिए बिना करना निषिद्ध है, नवविवाहित जोड़े को एक खुशहाल जीवन और बेटे की बधाई देने से मना किया है, क्योंकि यह जाहिलियत के समय के लोगों की शुभकामना है जो लड़कियों से नफरत करते थे, तलाक़शुदा औरत को अपने गर्भ को छुपाने से रोका है, पति और पत्नी के बीच संभोग से संबंधित जो बातें होती हैं उन्हें दूसरों से बयान करने से रोका गया है, बीवी को उसके पति के खिलाफ भड़काने और तलाक़ से खिलवाड़ करने से रोका है, किसी औरत के लिए निषिद्ध है कि वह अपने बहन के तलाक़ का मुतालबा करे चाहे वह (पहले से उसकी) बीवी हो या शादी के लिए प्रस्तावित हो, उदाहरण के तौर पर एक औरत किसी मर्द से यह मांग करे कि वह अपनी बीवी को तलाक़ दे दे ताकि यह औरत उस से शादी कर ले, औरत को बिना इजाज़त अपने पति के धन से खर्च करने से मना किया है, औरत को अपने पति के बिस्तर को छोड़ने से रोका है, और यदि बिना किसी शरई कारण के ऐसा करती है तो फरिश्ते उस पर लानत भेजते हैं, आदमी को अपने बाप की बीवी से शादी करने से रोका है, आदमी को ऐसी औरत से संभोग करने से रोका है जो किसी दूसरे आदमी से गर्भवती हो, आदमी को अपनी आज़ाद बीवी से उसकी अनुमति के बिना अज़्ल करने से रोका गया है (अज़्ल कहते हैं कि संभोग के दौरान आदमी पत्नी की यौनि से बाहर वीर्यपात करे), आदमी को यात्रा से लौटते समय अचानक रात के समय अपनी पत्नी के पास आ धमकने से रोका है, हाँ अगर अपने आने के समय की पूर्व सूचना दे दे तो कोई बात नहीं, पति को अपनी पत्नी के मह्र को उसकी सहमति के बिना लेने से रोका है, तथा पत्नी को इस उद्देश्य से परेशान करने और हानि पहुँचाने से रोका है ताकि वह परेशान होकर अपना धन देकर उस से छुटकारा हासिल करे।

महिलाओं को अपने श्रृंगार का प्रदर्शन करने से रोका है, औरत के खतने में अति करने से रोका है, औरत को अपने पति के घर में उसकी अनुमति के बिना किसी दूसरे को प्रवेश दिलाने से रोका है, अगर शरीअत का विरोध न होता हो तो सामान्य अनुमति काफी है, माँ और उसके बच्चे के बीच जुदाई पैदा करने से रोका है, तथा दय्यूसियत (निर्लज्जता, अपने परिवार में अनैतिक कार्य देखकर चुप रहने) से रोका है, परायी महिला को नज़र उठाकर देखने, और एक आकस्मिक झलक के बाद दुबारा देखने से मना किया है।

मुर्दार खाने से रोका है, चाहे वह डूब कर मरा हो, या गला घोंटने से, या शाट (सदमा) से, या ऊँची जगह से गिरने से, तथा खून, सुअर के मांस से, और जो जानवर अल्लाह के अलावा किसी और के नाम पर ज़ब्ह किया गया हो, और जो मूर्तियों के लिए ज़ब्ह किया गया है, इन सब से रोका है।

ऐसे जानवरों का मांस खाने और उनका दूध पीने से रोका है जो गंदगियों और कचरों का आहार लेते हैं, इसी तरह नुकीले दाँत वाले मांसभक्षी जानवरों और पंजे से शिकार करने वाले परिंदों का गोश्त खाने, और पालतू गदहे का मांस खाने से मना किया है, जानवरों को तकलीफ देकर मारने अर्थात् उसे बांध कर किसी चीज़ से मारना यहाँ तक कि वह मर जाये, या उसे चारा (भोजन) के बिना बांधे रखने से मना किया है, दांत या नाखुन से जानवर को ज़ब्ह करने, दूसरे जानवर के सामने किसी जानवर को ज़ब्ह करने, या जानवर के सामने छुरी तेज़ करने से मना किया हैं।

कपड़े और अलंकरण के छेत्र में

लिबास और पहनावे में अपव्यय करने और पुरूषों को सोना पहनने से मना किया है, नग्न होने, नंगे चलने फिरने, रान को खोलने, टखनों से नीचे कपड़ा लटकाने, या गर्व के तौर पर कपड़ा घसीटने, और शोहरत (दिखावे) के कपड़े पहनने से मना किया है।

झूठी गवाही से, पाकदामन औरत पर आरोप लगाने से, निर्दोष पर आरोप लगाने से और बुहतान अर्थात् किसी पर झूठ गढ़ने से मना किया है।

ऐब टटोलने, त्रुटियाँ निकालने, बुरे उपनाम के द्वारा बुलाने, गीबत, चुगलखोरी, मुसलमानों का उपहास करने, हसब व नसब पर गर्व करने, नसब में ऐब लगाने, गाली गलोज बकने, बुरी बात कहने, अश्लील और असभ्य तरीक़े से बात करने, ऊँची आवाज़ में बुरी बात कहने से मना किया है सिवाय उसके जिस पर अत्याचार किया गया हो।

झूठ बोलने से मना किया है और सबसे सख्त छूठ सपने के बारे में झूठ बोलना है, उदाहरण के तौर पर कोई प्रतिष्ठा, या भौतिक लाभ प्राप्त करने, या जिस से उसकी दुश्मनी है उसे भयभीत करने के लिए झूठा सपना गढ़ना।

आदमी को स्वयं अपनी प्रशंसा करने से मना किया है, सरगोशी (चुपके चुपके वार्तालाप) करने से मना किया है, अत: तीसरे को छोड़ कर दो आदमियों को सरगोशी नहीं करनी चाहिए ताकि वह चिंता ग्रस्त न हो, मोमिन (विश्वासी) पर अभिशाप करने या ऐसे आदमी को अभिशाप करने से मना किया है जो शापित किये जाने का योग्य नहीं है।

मृतकों की बुराई करना निषिद्ध है, तथा मौत की दुआ करने, या किसी मुसीबत से पीड़ित होने के कारण मौत की कामना करने, अपने ऊपर, संतान, नौकरों, और धन-संपत्ति पर शाप (बद-दुआ) करने से मना किया है।

जो खाना दूसरों के सामने है उस में से खाने से, तथा खाने के बीच में से खाने से मना किया है, बल्कि किनारे से खाना चाहिए क्योंकि बर्कत खाने के बीच में उतरती है, टूटे हुए बर्तन के टूटे हुए हिस्से से नहीं पीना चाहिए ताकि इस से उसे नुकसान न पहुँचे, बर्तन के मुँह से नहीं पीना चाहिए, तथा बर्तन में सांस लेने और पेट के बल लेट कर खाना खाने से मना किया है, ऐसे दस्तरख्वान पर बैठने से मना किया है जिस पर शराब पी जाती है।

सोते समय घर में आग को जलती छोड़ने से मना किया है, पेट के बल सोने से मना किया है, तथा इस बात से मना किया है कि आदमी बुरा सपना बयान करे या उसकी व्याख्या करे, क्योंकि यह शैतान की चाल है।

किसी को बिना अधिकार के क़त्ल करने से मना किया है, गरीबी के डर से बच्चों का क़त्ल करने से मना किया है, आत्म-हत्या करना निषिद्ध किया है, व्यभिचार, लौंडेबाज़ी (समलैंगिकता) करने, शराब पीने, उसे निचोड़ने, उसे उठाने और उसे बेचने से मना किया है, अल्लाह को नाराज़ करके लोगों को खुश करने से मना किया है, माता-पिता को डांट डपट करने और उफ तक कहने से भी मना किया है, बच्चे को अपने बाप के अलावा किसी और की तरफ मंसूब होने से मना किया है, आग के द्वारा सज़ा देने से रोका है, जीवितो और मृतकों को आग के द्वारा जलाने से मना किया है, मुस्ला (शव को विकृत) करने से मना किया है, गलत काम, पाप और अत्याचार पर सहयोग करने से मना किया है, अल्लाह की अवज्ञा में किसी आदमी का पालन करने से मना किया है, झूठी क़सम खाने और विनाशकारी शपथ लेने से मना किया है, लोगों की अनुमति के बिना छुप कर उनकी बातें सुनने से रोका है, लोगों के निजी अंगों को देखने से मना किया है, ऐसी चीज़ का दावा करने से जो उसका नहीं है और जो चीज़ आदमी के पास नहीं है उसके होने का इज़हार करने से, और आदमी जो नहीं किया है उस पर प्रशंसा किए जाने का प्रयास करने से मना किया है, किसी के घर में उनकी अनुमति के बिना देखने या झांकने से मना किया है, फुज़ूल खर्ची और अपव्यय से मना किया है, पाप करने की क़सम खाने, जासूसी करने, नेक पुरूषो और महिलाओं के बारे में बदगुमानी करने से मना किया है, एक दूसरे से ईर्ष्या, नफरत, द्वेष करने और पीठ फेरने से मना किया है, बातिल पर जमे रहने, तथा गर्व, घमण्ड, खुदपसन्दी, तथा स्वाभिमानता के तौर पर मस्ती करने और खुशी का प्रदर्शन करने से मना किया है, मुसलमान को अपने दान को वापस लेने से रोका है, भले ही उस को खरीद कर ही क्यों न हो, मज़दूर से पूरा काम लेने और उसे पूरी मज़दूरी न देने से रोका है, बच्चों को उपहार देने में न्याय से काम न लेने से रोका है, अपनी संपूर्ण संपत्ति की वसीयत कर देने और अपने वारिसों को भिखारी छोड़ देने से रोका है, अगर कोई आदमी ऐसा करता है तो उसकी वसीयत को केवल एक तिहाई माल में ही लागू किया जाये गा, पड़ोसी के साथ दुर्व्यवहार करने से रोका है, वसीयत में किसी को नुक़सान पहुँचाने से रोका है, बिना किसी शरई कारण के मुसलमान से तीन दिन से अधिक बातचीत करना छोड़ देने से रोका है, दो अंगुलियों के बीच कंकरी रख कर मारने से रोका गया है, क्योंकि इस से नुकसान पहुँचने का डर है जैसे कि आँख फूट जाना या दाँत टूट जाना, किसी वारिस के लिए वसीयत करने से रोका है क्योंकि अल्लाह तआला ने हर वारिस को उसका हक़ दे दिया है, पड़ोसी को कष्ट पहुँचाने से रोका है, एक मुसलमान को अपने मुसलमान भाई की ओर हथियार के द्वारा संकेत करने से मना किया है, तलवार को मियान से बाहर लेकर चलने से मना किया है ताकि किसी को नुक़सान न पहुँचे, दो आदमियों के बीच उनकी अनुमति के बिना जुदाई पैदा करने से रोका है, उपहार को यदि उसमें कोई शरई आपत्ति न हो तो उसे लौटाने से मना किया है, मूर्ख लोगों को धन देने से रेका है, अल्लाह तआला ने कुछ पुरूषों और महिलाओं को दूसरों पर जो प्रतिष्ठा प्रदान किया है उसकी कामना करने से मना किया है, एहसान जतलाकर और कष्ट पहुँचाकर सद्क़ात व खैरात को नष्ट करने से रोका है, गवाही को छिपाने से मना किया है, अनाथ को दबाने और मांगने वाले को डाँट-डपट करने से रोका है, अशुद्ध और अपवित्र दवा के द्वारा उपचार करने से मना किया है क्योंकि अल्लाह तआला ने उम्मत की शिफा उस चीज़ के अंदर नहीं रखा है जिसे उस पर हराम कर दिया है, युद्ध में बच्चों और महिलाओं को क़त्ल करने से मना किया है, किसी आदमी को किसी पर गर्व करने से रोका है, वादा तोड़ने से मना किया है, अमानत में खियानत करने से मना किया है, बिना ज़रूरत लोगों से मांगने से रोका है, मुसलमान को इस बात से रोका है कि वह किसी मुसलमान को भयभीत करे या हंसी मज़ाक या गंभीरता में उसका सामान ले ले, आदमी को इस बात से रोका है कि वह अपने हिबा या अनुदान को वापस ले ले सिवाय बाप के जो उस ने अपने बच्चे को दिया है (उस को वापस ले सकता है), बिना अनुभव के हकीम बनने से रोका है, चींटी, शहद की मक्खी और हुदहुद (हुपु पक्षी) को क़त्ल करने से मना किया है, पुरूष को पुरूष के निजी भाग और महिला को महिला के निजी भाग को देखने से मना किया है, दो लोगों के बीच उनकी अनुमति के बिना बैठने से मना किया है, केवल जाने पहचाने लोगों को सलाम करने से मना किया है, बल्कि आदमी जिस को जानता पहचानता है और जिस को नही जानता पहचानता है, हर एक को सलाम करेगा, आदमी को शपथ और अच्छे अमल के बीच क़सम को रूकावट नहीं बनाना चाहिये, बल्कि जो अच्छा हो उसे करना चाहिए और क़सम का कफ्फारा देना चाहिए, क्रोध की हालत में दो पक्षों के बीच फैसला करने, या दूसरे पक्ष की बात को सुने बिना किसी एक पक्ष के हक में फैसला करने से मना किया है, आदमी को अपने साथ ऐसी चीज़ लेकर बाज़ार में से गुज़रने से मना किया है जिस से मुसलमानों को तकलीफ पहुँच सकती है जैसे कि बिना कवर के धार वाले सामान, आदमी को इस बात से मना किया है कि वह दूसरे आदमी को उसकी जगह से उठा दे फिर स्वयं उस जगह बैठ जाये, आदमी को अपने भाई के पास से उसकी अनुमति के बिना उठकर चले जाने से मना किया है।

इनके अतिरिक्त अन्य आदेश और प्रतिषेध भी हैं जो मनुष्य और मानवता के सौभाग्य के लिए आये हैं, तो क्या ऐ प्रश्नकर्ता तू ने इस धर्म के समान कोई अन्य धर्म देखा या जाना है?

इस उत्तर को फिर से पढ़, फिर अपने आप से प्रश्न कर : क्या यह घाटे की बात नहीं है कि तू इस धर्म की एक अनुयायी नहीं है?

अल्लाह तआला महान क़ुर्आन में फरमाता है :"और जो व्यक्ति इस्लाम के सिवा कोई अन्य धर्म ढूंढ़े गा, तो वह (धर्म) उस से कदापि स्वीकार नहीं किया जायेगा, और वह आखिरत में घाटा उठाने वालों में से होगा।"   (सूरत आल-इम्रान:85)

अंत में, मैं तुम्हारे लिए और इस उत्तर को पढ़ने वाले प्रत्येक व्यक्ति के लिए यह कामना करता हूँ कि उसे सीधे मार्ग पर चलने और सत्य का अनुपालन करने का शुभ अवसर प्राप्त हो।

TUJHSE AUR JANNAT SE KYA MATLAB WAHABI.......... !!!





Bismillahirrahmanirraheem



TUJHSE AUR JANNAT SE KYA MATLAB WAHABI.......... !!!



Barre sagheer hind wa pak me ' NAJDI ' aur ' WAHABI ' ke alfaaz ek makhsoos maktab e fikr ki karam'farmaiyyan ke nateeje me unke awaam aur padhe likhe afraad ki zabaan par arsha'daraaz se maslak " AHLE HADITH " aur "DEOBANDI " khyaal ke tamam hi tawheed ke alambardaar aur shirk wa bidat ke amal par nakeer karne waalon ke liye ek " TOHMAT " aur " GHALEEZ GAALI " ki jagah istemal hote rahe hain,

Aur amuman najdi wa wahabi ki dono ijaad ek dusre ki mutraadaf aur ham'maana samjhi jaati hai,

in ijaad'kardah lafz ko ba'taur tanz wa tabarra istemal karne ka sahara agarchah barre sagheer ki ek mashoor wa maroof mazhabi shakhsiya aur makhsoos " Maktab e fikr " ke baani aur sarbaraah ke sar jaata hai,

taaham wahabi aur najdi ki arfiyat aur " ghali " se poori tarah tawaffiq aur tawheed ke kilaaf inko ba'taur " harba (techniqe) Istemal karne me awliya e tassawwuf se waa'basta aur shirk wa bidat ke pairokaar dusre giroh aur kuch makhsoos " firqe " bhi, iske hamnawa aur kirdaar'kushi ki is muhim aur propaganda me kadam se kadam milaaye nazar aate hain,


Wahabi aur najdi ke naam se mukhaalifeen e tauheed, aur shirk wa bidat ke aalam'bardar logon ke zehno me badi khoobsoorti ke saath zehno me bithaaya gaya hai,

iske mutabik aise tamam log qatai kafir aur murtad, dushmanaan e rasool aur munkireen e awliya allah hain,

inse nafrat karna, unke liye dilon me bughz rakhna farz aur imaan takaaza hai, aur aise logon se taalluqaat rakhna, unse salaam wa kalaam ya musaafa karna, unke salaam ka jawab dena qatai " HARAAM " aur najayez hai, kyonki ye log uper uper se musalman hain, magar andar se bilkul kafir aur khaarij e iman hain,

unki namaz na toh namaz hai aur na unki di hui azan sahih  hai, ye log bilkul saaf taur par jahannum ke Eendhan hain,

aur unke bil'muqaabil ham (barelwi,shia) khud sacche pakke sunni ul aqeedah musalmaan, jo awliya ke chahete aur nabi e akram sallaho alaihi wasallam (pbuh) ke sacche ASHIQ aur jaan'nisaar hain, isliye ham (barelwi ) log bila'kisi diqqat ke aur nabi e akram sallaho alaihi wasallam (pbuh) aur awliya ki shifaarish se seedhe jannat me chale jaayenge,

jaisa ke unki maroof mazhabi shakhs ke is shayer se zaahir hota hai,

" tujhse aur jannat se kiya matlab wahabi door ho,

ham rasoollullah ke, jannat rasoollah ki "


nez ye ke

" sooraj ulte paaon palte, chand ishaare se ho chaak

andhe najdi dekh le, qudrat rasoollullah "


shayeri chunke awaam un naas, khusan Jaahilon ke zaheno tak pahunchne ka sabse aasaan aur bahtareen zariya hai, isliye wahabi aur najdi ki muzammat me be'shumar ash'har  likhe gaye aur logon me aam kiye gaye aur unhe raat wa din apne aqaid baatila ki nashr'gaah masjid ke  LOUDSPEAKERS ke zariye, nez mahfil meelad wa majalis muharram wa chehellum ke stage se ,aur bastiyon me nashr kiya jaata hai, taake wah awaam ke dar e zabaan ho jaayen aur gali gali unka asar wa propaganda kiya ja sake,

chunanche is qism  ke chand ash'har ba'taur namoona mulaaheza ho


" jisne sab najdiyon ke qile dha diye

himmat ala hazrat par lakhon salaam "


" sheikh najdi ka sar kaat kar rakh diya

khanjar ala hazrat pe lakhon salam "

nez ye bhi mulaheza ho


" na namaz unki namaz hai, na rasool se unhe kuch gharz,

karen lakh sajden wah din raat hain, wahabi phir bhi jahannami "


Beharhaal ! Awaam un naas ke faasid'shudah aur bimaar zehan ki is kaifiyat aur islam dushman anaasir ki musalmano ki safon me fitna'aaraayi ki koshishon aur bahami nafrat wa adawat ki takham'rezi ke pesh e nazar ba'shaur aur baaligh nazar logon ke zameer ko jhinjhodne aur ahle shia wa yahud wa nasaara ki ummat muslima Ke khilaaf propagandah se aagaah karne ke liye is blog (ISLAMICLEAKS) par ek series isi talluq se pesh ki ja rahi hai jo Dr abu adnan saheel ki murattab kitab "  HADITH NAJD AUR FITNA NAJDIYAT KA...........EK TAHQEEQI JAYEZA " me murattab ki gayi hai,

jisme wahabi aur najdi ke badnaam zamana istelaahaat ki haqeeqat se pardah uthaaya gaya hai, aur arbi lughat , sar'zameen me arab ki geograaphia . Kutub seerat aur hadith e nabwi  ki roshni me un istalaahaat (bad'naam lafz) ka tahqeeqi jayeza liya gaya hai,

Barelwi mujaddid ne in dono naamon ka bahut propaganda kiya aur shor wa kohram barpa kiya hai, uska pash-e- manzar aur haqeeqi maqsad kiya hai ?

Aur musalmano ki safon me tafreeq wa nifaaq ba'ham nafrat wa bughz wa anaad aur girohi propaganda ke jazbaat ubhaarne waale in dushman e islam anaasir ke  hamileen logon ke saajish dimagh kaam kar raha hai, uska bhi khulaasa hua hai,

nez islam ko bad'naam Karne ke liye unke napak azaim kiya kuch hain ?? Unka bhi jaayeza liya gaya hai,

in sab baaton ki nishaan'dehi us kitab aur hamare blog (ISLAMICLEAKS) me ki gayi hai,


NAJD AUR NAJDIYAT KA JAAYEZA : (PART - 1)

NAJD AUR NAJDIYAT KA JAAYEZA : (PART - 2)

NAJD AUR NAJDIYAT KA JAAYEZA : (PART - 3)

NAJD AUR NAJDIYAT KA JAAYEZA : (PART - 4)

FITNO KI AAMAD'GAAH TAREEKH KE AINE ME : ( PART 5)

TAANA E NAJDIYAT AUR WAHABIYYAT KA PASH-E-MANZAR (PART 5)


FITNA-E-NAJDIYAT AUR ULEMA E HIND : (PART-2)




HAMEN ummeed hai ke inshallah ye kitab  aur blog tamam insaaf pasand aur nek fitrat logon ke liye behtar raah saabit hogi......



Allah taala ham sabko haq baat kahne aur us par amal paira hone ki taufeeq de........ameen

FITNA-E-NAJDIYAT AUR ULEMA E HIND : (PART-2)










Bismillahirrahnirraheem


 
FITNA-E-NAJDIYAT AUR ULEMA E HIND : (PART-2)




Isi tarah khan sahab barelwi ka ye fatawa bhi unki " tabarrayi " zehniyat ki nishandehi karta hai aur unki (SADISM) ki nafsiyaati bimari ka aina'daar hai,

farmate hain

" wahabi sabse bad'tar murtad hain, unka Nikah Kisi Haiwaan se bhi nahin ho sakta, jisse bhi hoga, zina e khaalis hoga "

( fatawa rizwiya jild 5 pg 194)

aapne mulaaheza farmaya !!!

" haiwaan se nikah ke alfaz se andaaza kiya ja sakta hai ke " faazil e barelwi " ahmad raza khan sahab ghaiz wa ghazab aur bughz wa adaawat ke kis bulandi par hain ??

" Haiwaan se Nikah !!!"

agar ahmad raza khan sahab barelwi ke ye alfaaz khaalis shi'ee andaz " tabarra " par mabni nahin hain, toh phir khan sahab ke nazariyaat ke pairokaar, iski wazaahat ke zimme'dar hain ke,

haiwaanaat me fa'al nikaah ka riwaaj duniya ke kis hissa me paaya jaata hai ???

Aur unka nikah padhaane waala qaazi... ......... Jo ghaliban insaan hi hota hoga..... In haiwaano ka nikah kis zabaan me karaata hai ??

Haiwaanaat ko nikah ya sharai qawaneen ka muqallaf shariat e islamia me toh banaya toh nahin gaya hai, toh phir haiwaanaat se nikah waali baat unhone kis mazhab aur kausi shariat ki ru se irshaad farmayi hai..... ??

Agar ahmad raza khan sahab barelwi ka mahaz izhaar " tabarra" nahin hai, toh phir haiwaanaat se nikah karne ki baat maqool wazaahat hona chahiye !!

Wahabi agar khan sahab barelwi ke khyaal ke mutaabik " bad'tar murtad" hain, toh rishta azwaaj (life partner) ke liye duniya me dusre murtadeen ka aqaal (drought) padh gaya, jo wah unhen chhodkar haiwaanaat se rishta nikah karne par MAJBOOR honge ??

Aur phir khan sahab barelwi ke ye alfaz ke

"jisse bhi hoga zina e khalis hoga"

ye bhi kaunsi aqalmandi ki baat irshad farmayi hai ??

Agar wah " murtadeen " aapas me hi apne ham khyaal logon me shadi Byaah karen, jis tarah deegar kaafir aur mushrik karte hain, toh unka ye rishta ghalat aur " zina e khalis " aakhir kis usool aur kaunsi buniyaad par hoga ???

In tamam sawaalaat ke tafseel bakhs jawaabat diye be'ghair " tabarra " ka ilzaam bani e barelwiyat janab ahmad raza khan sahab ke daaman se dhoya nahi ja sakta !!

Jahan tak " tabarra  " ke shi'ee fitrat ke izhar ki baat hai, toh ahmad raza khan barelwi ne apne is sha'ar ke zariye apne hi chehre ka naqaab utaar kar phenk diya hai,

mulaheza ho

" dil e dushman ko raza tez namak ki dhun hai,

haan zara aur chidakta rahe khamah tera "

(hadaiq bakhsish)


Musalmano se nafrat wa adaawat aur " tabarra " ke zaman me ek aqtabaas aakhir aur mulaaheza farmaaye, janab ahmad raza khan barelwi insaaniyat aur sharaafat ke jama se baaher ho kar " wahabiyon " par kis tarah ghaiz wa ghazab ka izhaar karte hai,

" Khabeeson tum kafir thaher chuke ho, iblees ke Maskhare, dajjal ke gadhe, aiy munafikon wahabiya ki pooch imaarat, qaroon ki tarah tahtus'sara pahunchti, najdiyat ke kawwe sisakte, wahabiyat ke BOOM bilakte, aur mazbooh gustaakh bhadakte "

(khalis ul eteqaad page 20)


Baher'haal ! Tabarra'aaraayi ka jo harba aazmaaya tha, ba'zaahir uska asli TARGET saudi arab ke aalim e deen hz muhammad bin abdul wahab najdi tamimi (rh) ki zaat e giraami maalum hoti hai,

magar asliyat me ye " sahyooni shajish (zionist conspiracy ) ki ek kadi thi, jiska maqsad na sirf bar e sagheer hind ke musalmano me balke aalmi satah par millat e islamiyah me inte'shaar wa tafreeq paida karna aur unhen markaz e islam " makka mukarrama " aur madeena munawwara se zahni taur par kaatna aur arabon se  nafrat paida karwana tha,

khaas taur par hajj ke mauqe par har saal wahdat e islami aur akhwat e bahimi ka jo shandar nazaara haramain sharifain me dekhne me aata hai aur tamam Aur duniya ke  musalman wahan dauraan e fareeza e hajj aapas me khuloos se milte hain, aur  haramain sharifain ke qaabil e ehteraam imamon ki iqteda me har maktab e fikr ke log  ek hokar aur pair se pair milakar namazein padhte hain,

yahudi laabi ki nigaahon me ye shaandar nazaara hamesha se buri tarah se chubhta raha hai, kyonki ye soorat e haal unke khwaabon ki " aalmi yahudi sultanate " (DEVID REGIME ) ke qayaam ki raah me sabse bada roda aur unke inhedaam e islam ke mansooba me ek mazboot rukaawat thi,

hajj me musalmano ka ye aalmi ijtema aur wahdat e islami ka azeem us shan mazaahirah unke liye hamesha se ek CHALLENGE ki haisiyat rakhta hai,

markaz e islam makka wa madeena se yahudion ki adaawat hamesha se rahi hai,

chunanche yahudion ki koshishen rang layi aur aaj barre sagheer hind wa pak ke kalma go afraad ka ek giroh (barelwi) zahni taur par markaz e islam se katai kat chuka hai, aur  Muhammad bin abdul wahhab najdi tamimi (rh) ke hawaale se aaj makkah mukarrama, madeena munawwara aur saudi arabia ke saare hi arab unke nazdeek " bad'mazhab " khaarij ul islam aur naozubillah " dushman e rasool " hain, aur haramain shareefain me maujoodah imam unke nazdeek kafir wa murtad hain..... Jinki iqdeta me namaz padhna wah haraam samjhte hain aur hajj ke zamaane me jab wah haramain sharifain me azaan ki awaaz sunte hain toh ujlat ke saath ulte paaon apni qayaam gaahon ki taraf daudh lagaate hain, taake wahan chhup kar wahan kamre me inferaadi taur par apni namazein ada kar saken,

jo log bheed me phans kar haram se baaher nahin nikal paate wah majbooran haram ke kinaare bane hue bait ul khala ( LATRINE ) ka rukh karte hain, aur dauraan e namaz e haram khud ko pakhaano me band aur pooseedah rakhte hain, taake un par haram me tainaat " mazhabi police " ke kisi sipaahi ki kahin nazar na padh jaaye , warna wah pakde jaayenge, aur zillat wa khwaari ke saath jail ki hawa khaayenge, aur anjaam e kaar hajj kiye be'ghair waapas watan bhej diye jaayenge,


yahud wa nasaara ki aalam e islam ke saath kash'makash aur muhaaz'aaraayi bahut puraani hai, isaaiyon ki musalmano se saleebi jaungon ka silsila aur sultan nooruddin jungi, aur sultan salahuddin ayyubi (rh) ke haathon unki zillat amez'shikast aaj bhi isaayi duniya ko acchi tarah yaad hain, aur un hazeematon ke zakhm abhi tak unke dilon me nahin bhar paaye hain,

chand saal pahle afghanistan me taliban ki hukumat ke khilaaf elaan e jung ke mauqa par america ke sadar george w bush ne jis tarah " Saleebi jung " ke hawaale se musalmano ko kuchalne ki baat ki thi, wah aaj bhi logon ko yaad hogi,

islam dushman taaqatein musalmano ki jin khususiyaat se khauff zadah rahti hain wah unka " Jazba Jihad " ka be'misl muzaaherah aur baahimi akhwat aur markaz e islam Se ghair mamooli taalluq aur aqeedat wa muhabbat ka izhaar hai, unme bhi sabse zyada ahmiyat JIHAD ko haasil hai,

zaahir hai ke islami jihad ya jihad fi sabeelillah jiske naam hi se ghair muslim taaqatein larazti hain, musalmano me baahami ittehaad , jazba e akhwat aur itaat e ameer ke qawi rujhaanaat ke be'ghair amal pazeer nahin ho sakta, in khususiyaat ke be'ghair jihad ki haisiyat ek " waqti muzahera " aur " fauji khud'kashi " se zayada nahi rahti, aur usme kaamyaabi ke imkaanaat ek feesad ( 1% ) bhi nahin hote,


Dushman e islam is haqeeqat ko acchi tarah se jaante hain aur isi liye wah mukhtalif muhaazon par musalmano ke inte'shar ke liye hamesha sar'garm e amal rahte hain, taake ye kabhi unke khilaaf kadam se kadam milaakar khade na ho saken,

musalmano me ye zaat paat (casteism) ki tafreeq aur oonch neech ki zahniyat . Ilaaqaayi aur insaani buniyadon un me inte'shar aur zehni dooriyan siyaasi Aur mu'aasharti giroh bandion ke mazaherd aur zehni aitbaar se " kalma go " aur allah aur uske rasool nabi e akram sallalaho alaihi wasallam (pbuh) ke wafaadaar aur jaan'nisaar kahlaane ke wajood unme bahimi infaaq , nafraton aur adaawaton ki naqaabil e uboor wagerah wagerah

agar gahraayi se ghaur karen toh ye sab baatein, khususan bare sagheer hind wa pak  ke musalmano me........ Hamare purane dushman yahud wa nasaara ki karam'farmaiyan nazar aayengi,

unhone hi hamare ittefaq wa ittehad ko taar taar karne aur hamen kamzor wa be'haisiyat banaane ke liye hamare darmiyaan ye diwaaren khadi ki hain,

allah taala ka irshad hai

" aur aapas me tum ikhtelaaf aur jhagda mat karo, warna tum kamzor ho jaaoge, aur tumhari hawa ukhad jaayegi "

(surah anfaal 46)

ummat e muslima ke darmiyaan fitne baaz log  hamesha se rahen hain,

daur e risaalat me ye " munaafiqeen" ke naam se pahchaane jaate they,

aaj ke daur Me unpar deegar mukhtalif qism ke lebel lage hue hain, musalmano me tafarraqa aur inte'shar paida karne waale ye log  jo dar'pardah dushmanan e islam yahud wa nasaara ke agent aur unke haathon ke khilone (toy) bane hue hain,

kabhi ye log mufaad parast ulema e su ki shakl me logon ko gumrah karte hain, aur unme aapas me foot daalte hain, aur kahin peeron ka bahroop bana kar aur khaankaahi saj ban kar baith jaate hain, aur jaahil awaam ko apna mureed banaane ke baad Unhen shirk wa bidat ke amaal e kabeeha aur ghair islami rasoomaat ka aadi banaate hain,

aur kabhi ye aaj munaafiqeen  rahbar e millat aur Siyaasi Qaayedeen ke roop me apna ek halqa asar awaam ke darmiyaan banaate hain, phir jab log unke wafaadaar, hamnawa aur poori tarah mureed ban jaate hain toh ye awaam un naas ke maasoom aur saada'zahno ka istehsaal (EXPLOITATION) karke unke jazbaat e wafaadaari wa himayat e khelte hue, unhe mukhtalif  Bahaano aur jhooti afwaahon ke zariye ek dusre ke khilaaf bhadkaate aur baahami nafrat wa adaawat ka sabak padhaate hain, taake millat e islamia ke ye qalma go afraad mukhtalif siyaasi toliyon aur mazhabi girohon me bat kar hamesha ek dusre se takraate rahen, aur kabhi ek hokar dushmanaan e islam ke khilaaf bar'bakaf na ho saken.....


" kiya kiya luta hai terah naseebi ke daur me,

ghar me koi chiragh jale toh pata chale "


ALLAH TAALA HAM SABKO HAQ BAAT KAHNE AUR SUNNE AUR US PAR AMAL KARNE KI TAUFEEQ DE........AMEEN


(ABU ADNAN SAHEEL )