Sahaba Impex

Sahaba Impex
Corkwood Inspired

Sunday, April 15, 2018

TAX KI SHA’RAI HAISIYAT: RULING OF TAXATION IN ISLAM





Bismillahirrahmanirraheem



TAX KI SHA’RAI HAISIYAT: RULING OF TAXATION IN ISLAM

Tax Wo Rakam (Cash) Hai Jo Hukumat Chalaane Ke Liye Alag Alag Sooraton (Types) Me Logon Se Wasool Ki Jaati Hai, Aur Jo Log Taiy (Fixed) Waqt Par Tax Ada Na Karen Unke Khilaaf Kaanooni Kaarwaahi Ki Jaati Hai,

Kaha Jata Hai Ki Sabse Pahle Yunaan (Greece) Aur Rome  Me Sab Se Pahle Istemaal Hone Waali Cheezon (Goods) Par Tax Lagaaaya Gaya, Sabse Pahle Jis Mulk Ne Aam Income Tax Ke Nizaam Ko Apnaaya Wo Britain Hai,

Nepolean Bonaparte Ke Khilaaf Jung Ladne Ke Liye  Britain Hukumat Ne 1799 CE Me Income Tax Laagu Kiya,1810 Me Jung Khatam Hui Toh 1842 Tak British Logon Ko Is Tax Ke Bojh Se Azaad Kar Diya Gaya, Lekin Baad Me President Budget Me Khasaare (Budget Deficit) Ki Wajah Se Dobara Tax Laagu Kar Diya,

1880 CE Tak Log Tax Ke Aadi (Habitual) Ho Gaye, Isi Tarah Dheere Dheere Germany, France, Italy, Sweden Aur America Etc Me Be Tax Laagu Ho Gaya, Angrez Hindustan Me Aaya Toh Yahan Bhi Tax Laagu Ho Gaya,

Islam Ki Aamad Ke Mauqe Par Jo Mukhtalif (Different)  Qism Ke Tax They Unka Mukhtasar (Short) Bayan Is Tarah Hai

M’sak: Zamana E Jaahiliyat (Period Of Ignorance) Me Logon Se Zabardasti Wasool Kiye Jaane Wala Tax, Islam Ne Iski Muzammat Bayan Ki Au Rise Azeem Gunaah Aur Jahannum Me Daakhile Ka Zariya Qaraar Diya

Jiz’yah:  Ye Wo Tax Tha Jog Hair Muslimon (Non- Muslim) Se Unki Jaan Aur Maal Ki Hifaazat (Security Of Life And Wealth Tax) Ke Badle Me Wasool Kiya Jaata Tha, Islam Qubool Karne Se Ye Tax Khatam Ho Jaata Hai,

Khi’raaj : Ye Tax Bhi Ghair Muslims Par Lagaaya That Ha, Dar’asal Ye Unki Zameeno Par Lagan Tha, Jung Me Jeete Hue Ilaaqon Ko Unke Puraane Maalikon Ke Qabze Me Rahne Diya Jaata Aur Unke Ilaaqe Ke Aitbaar Se Khi’raaj Wasool Kiya Jaata

Za’reebah : Ye Bhi Tax Ki Ek Soorat Se Jo Ghulaamon Aur Ghair Muslamano Par Lagaaya Jaata, Musalmano Se Iska Koi Taalluq Na Tha.

Aa’shar:  Is Se Muraad Wo Tijarati Import Duty Thi Jo Yahood Aur Isaayi Aur Hinduon Ke Un Maalon Par Wasool Ki Jaati Thi Jo Tijaarat Karne Ki Wajah Se  Musalmano Ke Ilaaqe Me Laaya Karte They,

Waazeh Rahe Musalmano Par Sirf Zakaat Aur Aa’shoor Ki Hi Paabandi Hai, Iske Elawah Koi Apni Marzi Se Sadqah Wa Khairaat Karta Hai Toh Who Zyada Ajr Wa Sawaab Ka Mustahiq Hai, Zakaat Aur A’shar Ke Elawah Musalmano Par  Allah Ki Taraf Se Koi Bhi Tax Waajib (Obligatory) Nahin, Isiliye Imam Shaukani Ne Naqal Farmaaya Hai Ke

“In (Musalmano) Par Zaqaat Ke Elewa Koi Tax Ya Us Jaisi Koi Cheez Waajib Nahin”

(Neel Ul Awtar)

Aur Ek Riwayat Me Bhi Hai Ke

“Jab Tune Apne Maal Ki Zakaat Ada Kar Di To Jo Tujh Par Farz Tha Who Tone Poora Kar Diya”
(At Targheeb)

Islam Ne In Sab Zaalimaana Taxes Ke Bar’khilaaf (Opposite) Sirf Saal Me Ek Hi Baar Zakaat Farz Ki Hai, Aur Ghair Muslimon Se Bhi Un Par Waajib (Obligatory) Tax Se Zyada Wasool Karne Ki Ijaazat Nahin Di Toh Islami Riyaasat Me Musalmano Se Baar Baar (Income Tax, Sale Tax, GST, Import Duty, Excise Duty Etc) Ghair Islamic Tax Wasool Karne Ki Gunjaish Kaise Nikal Sakti Hai ??


Lihaza Waazeh Rah Eke Is Tarah Ke Tamam Tax Ghair Sharai Hain Islam Ka Inse Koi Taalluq Nahin 



#IslamicLeaks
#UmairSalafiAlHindi

Tuesday, April 10, 2018

SHADI KE BAAD SHAUHAR KA NAAM APNE NAAM KE SATH LAGANA HARAAM HAI





Bismillahirrahmanirrahem


SHADI KE BAAD SHAUHAR KA NAAM APNE NAAM KE SATH LAGANA HARAAM HAI

Jo Auratein Apni Shadi Ke Baad Apne Walid Ka Naam Hatakar Apne Shauhar Ka Naam Apne Naam
Ke Aage Lagati Hai Wo Haram Hai.
Misaal K Taur Pe, Shaadi Se Pehley Unka Naam "Fatima Maqsood Ali" Tha Aur Shaadi Hui Sajid Siddiqui Se, Ab Naam Badal Kr "Fatima Sajid Siddiqui" Ya Sirf "Fatima Sajid" Kar Liya. Ye Haraam Hai.

Iski Ijazat Nahi Hai Ki Koi Apney Baap (Walid) Ka Naam Hata Kar Apney Shauhar Ka Naam Ya Apney Shauhar K Khaandaan Ka Naam Apney Naam Ke Agey Lagaye, Ye Kuffar Ka Tareeqa Hai Hame Isko Apnane Se Bachna Chahiye.

AHADEES


Rasool’Allah Sallallahu Alaihi Wasallam Ne Farmaya:

 "Jisney Apney Naam Ko Apney Walid K Naam K Alawa, Apney Naam Me Kisi Dusre Ka Naam (Jo Uska Baap Nahi) Joda Us Par Allah Ki Aur Farishton Ki Lanat Hai "

(Ibn Maajah, 2599�)

Abu Dharr (Radiallahu Anhu) Ne Suna Ki Rasool'Allah Sallallahu Alaihi Wasallam Ne Farmaya :

“ Kisi Admi Ne Apne Walid K Siwa Apni Shinakht Kisi Aur K Saath Milaee Usne Kufr Kiya.
Jisney Us Shaks Se Apney Ko Joda Jo Uska Baap Nahi Wo Apna Thikana Jahannam Me Bana Le.”

(Bukhari 3508 And Muslim 61)

 Sad Ibn Abi Waqqaas Aur Abu Bakar (Radiallahu Anhuma) Ne Kaha Ki Rasool'Allah Sallallahu Alaihi Wasallam Ne Farmaya:

“Jo Ye Kehta Hai Ki Wo Musalman Hai Aur Wo Kisi K Saath Khud Ko Jodta (Attach) Hai Jo Uska Baap
Nahi, Ye Jaan Kar Ki Wo Uska Haqiqi Baap Nahi, Jannat Uske Liye Haraam Hai.”

[Bukhaari 4072 And Muslim 63]

Issey Zada Or Kya Warning Ho Sakti Hai..

Ye Kuffar Ka Tareeqa Tha Or Aaj Hamari Behne Bade Shauq Se Isko Apnati Hain, Yaad Rahey Baap
Ka Rishta Kisi Bhi Nae Rishtey K Aney K Baad Khatam Nahi Hota Aur Aulad Ki Shinakht Aur Pehchan Uske Walid K Naam Se Hi Hogi, Aur Apne Shauhar Ka Naam Apne Naam K Saath Lagana Ye
Kufr Aur Haraam Ka Bais Hai.

Shauhar Aur Biwi Ka Khoon Ka Rishta Nahi Hota Aur Naam Sirf Khoon K Rishtey Se Hi Joda Ja Sakta
Hai. Agar Kisi Wajah Se Uska Talaq Hoga To Us Surat Me Wo Kitney Naamo Ko Change Kareygi
Agar Shauhar Ka Naam Lagana Sahi Hota To Rasool’Allah Sallallahu Alaihi Wasallam
Ki
Biwiyon Ne Bhi Apna Naam Badla Hota Kyunki Unke Shauhar To Duniya K Afzal Tareen Shaks The.

Maslan(Example)

Khadeeja (Radiallahu Anha) Hamesha Khadeeja Bin Khuwalid Rahin ,
Aysha (Radiallahu Anha) Hamesha Ta-Umr Aysha Bint Abu Baker Rahin.
Yahan Tak Ki Rasool'Allah Sallallahu Alaihi Wasallam
Ki Wo Biwiyan Jinke Baap Kafir They,
Aapney Unke Naam Ka Laqab Bhi Kabhi Tabdeel Nahi Kiya.

Jaise:

Saffiya Bint Huyayy (Radiallahu Anha) ( Huyayy Yahoodi Tha Or Rasool’Allah Sallallahu Alaihi Wasallam Ka Jani Dusman Bhi Tha)

Jannat Mey Aurton Ki Sardar Fatima (Radiallahu Anha) Hamesha Fatima Bint Muhammad Rahin
Unhoney Ali (Radiallahu Anhu) K Naam Ke Sath Apne Naam Ko Kabhi Nahi Joda.

Jis Behan Ne Galti Se Aisa Kiya Hai Wo Allah Se Sacchi Tauba Karey Aur Apne Walid Ka Naam
Wapas Apne Naam Se Jodley. Hame Apney Amaalon Ka Hisab Allah Ko Dena Hai Aur Ye Sarsar
Allah Aur Uske Rasool Ki Nafarmani Hai.

Allah Hame Samjhney Aur Is Par Amal Krney Ki

Taufeeq Dey. AAMEEN YA ALLAH !!!!

KYA MAKKAH PAHLE MAKKESHWAR MAHADEV MANDIR THA ?






आज कल एक बेतुकी और बिना सर पैर की की अफवाह को जानबूझकर वास्तविक रूप दे कर पेश करने की कोशिश की जा रही हैं अक्सर websites, blogs, facebook तथा twitter आदि के माध्यम से यह अफवाह कुछ लोगो द्वारा फैअलायी जा रही हैं की मुसलमानों का काबा एक शिव मंदिर हैं या फिर उसमे शिवलिंग हैं या यशोदा और कृष्ण की तस्वीरे काबे के अन्दर हैं या कोई दीपक हमेशा जलता रहता हैं और मुसलमान हज के दौरान वहा शिव या कृष्ण उपासना करते हैं यह पूर्ण रूप से बकवास और अफवाह हैं एक तरफ तो यही लोग कहते हैं की मुसलमान बादशाहों ने मंदिर तोड़े क्यूंकि वो उन्हें मानते नहीं थे और फिर कहते हैं मुसलमानों का काबा एक मंदिर हैं जहा मुसलमान शिवलिंग की उपासना करते हैं यदि मुसलमान शिवलिंग की उपासना ही करते हैं तो फिर उन्हें यह बात कहने या बताने में क्या हर्ज हैं? 



और क्यूँ फिर वो जिस देवता को मानते हैं उसे उसी के देश भारत में उसकी उपासना क्यों नहीं करते? या फिर तीर्थ पर मक्के के बजाये अमरनाथ या काशी क्यों नहीं जाते?

काबे के शिव मंदिर होने की अफवाह सर्वप्रथम रवि शंकर ने अपनी किताब 'Hindusim & Islam' में प्रस्तुत की थी बिना किसी तर्क और दलील के बस उसने लिख दिया और आम हिन्दुओ ने मान लिया क्या अब तक किसी हिन्दू को पता था की उनका सबसे बड़ा शिव मंदिर काबा हैं? 

क्या पुराणों में अरब में किसी शिव मंदिर का वर्णन हैं ? ज़ाहिर हैं नहीं यह सिर्फ रवि शंकर और कुछ हिन्दुओ की उड़ाई हुई अफवाह है जिसका वास्तविकता से कुछ लेना देना नहीं हैं

और वैसे भी हिन्दू धर्म कभी भारतीय उपमहादीप के बहार नहीं गया और ना ही कभी भारतीय उपमहादीप के बहार कोई हिन्दू धर्म के मानने वाला या कोई हिन्दू मंदिर रहा हैं पुरे सऊदी अरब, बहरीन, मिस्र, इंग्लैंड, फ्रांस, इटली, रोम, टर्की, अमेरिका, अफ्रीका, रूस आदि के इतिहास में वैदिक धर्म का या किसी भारतीय देवता के मंदिर का कोई नामो निशान भी नहीं मिलता हैं और हिन्दू reformer स्वामी दयानद सरस्वती के अनुसार तो यह सभी देवी देवता लोगो के स्वयं के घड़े हुए हैं और प्राचीन भारतीय समाज में सिर्फ एक निराकार ईश्वर की उपासना होती थी तो फिर मक्के में किसी प्राचीन शिव मंदिर का तो कोई मसला ही नहीं बनता हैं और वैसे भी इन लोगो को तो हर खड़ी चीज़ शिवलिंग और हर काली वस्तु महादेव नज़र आते हैं कल को कही यह लोग यह दावा नहीं कर दे के दुनिया में हर काले रंग की इमारत शिव मंदिर हैं और जितने बिजली के खम्बे हैं सब शिवलिंग हैं



लेखक - ज़ीशान अली खान

MULK E SHAAM (SYRIA) KI FAZEELAT






मुल्क-ए-शाम की फ़ज़लियत
  


 सरज़मीं शाम ईमान वालों की सरजमीं है। प्यारे हबीब आप सल्ल० ने फ़रमाया मैंने देखा मेरे तकिये के नीचे से किताब का एक हिस्सा मुझसे छीना जा रहा है। मेरी नज़रों ने उसका ताबकूब किया, मुझसे वापस लिया जा रहा मेरी नज़रें उसको देख रही और उधर से बहुत नूर फुट रहा था। मैंने देखा किताब का वह हिस्सा शाम में रख दिया गया है। जब फ़ित्ने आम होंगे तो ईमान शाम में होगा।
    

 सैयदना अब्दुल्लाह इब्ने उमर रज़ि० फरमाते हैं आप सल्ल० ने फ़रमाया ऐ अल्लाह हमारे शाम में हमें बरकतें नसीब फ़रमा। हमारे यमन में हमें बरकतें नसीब फरमा। बिलादे शाम और बिलादे यमन वो मुबारक सरज़मीं है, जिसमें बरकतों के लिये आप सल्ल० ने अपने रब से सवाल किया है।।       


(सहीह बुखारी)


आप सल्ल० ने फ़रमाया शाम के लिए खुशहाली है। सहाबाओं ने अर्ज़ किया या रसुल्लुलाह किस वजह से, आपने फरमाया रहमान के मलाइका मुल्क ए शाम पे अपने पर फैलाये हुवे हैं। अपने परों से मलाइका ने ढंका हुवा है। सरज़मीं मुल्क ए शाम बेहतरीन बन्दों के लिए बेहतरीन सरज़मीं हैं।           

(तिर्मिज़ी)   


सैय्यदना अब्दुल्लाह से रिवायत है उन्होंने कहा या रसूलुल्लाह आप  सल्ल० आप मुझे बताइये मैं किस इलाके में जाऊं आपने फ़रमाया बेहतरीन वह लोग होंगे, जो मुल्क ए शाम की तरफ हिज़रत करेंगे।।    

(मुसनद अहमद और अबू दाऊद)


प्यारे नबी आप सल्ल० ने फ़रमाया जब अहले शाम बिगड़ जाए और उन में फसाद बरपा हो जाए, तो फिर तुम्हारे अंदर खैर नहीं है और याद रखना मेरी उम्मत का एक गिरोह " ला इलाहा इल्लल्लाह " के लिए हमेशा हक़ पर रहेगा वह अहले हक़ होगा, जो उनको तकलीफ पहुँचाना चाहे और जो उनको रुस्वा करने की प्लानिंग करना चाहे वह खुद रुस्वा होगा। उनको कोई तकलीफ नहीं दे सकेगा। यह हक़ पर बाक़ी रहेंगे। यहाँ तक की क़यामत क़ायम हो जायेगी और इनका हक़ पर बाकी होना अल्लाह की तरफ से मदद पाने की मुराद क्या है , इन्हें दलील के मैदान में कोई हरा नहीं सकेगा। हक़ इनके साथ होगा।          

(तिर्मिज़ी)


आप सल्ल० ने फ़रमाया अनक़रीब अमरीसराह होगा की तुम लश्करों के मज़मुएं बन जाओगे। एक लश्कर मुल्क ए शाम में होगा और एक लश्कर यमन में होगा और एक लश्कर इराक़ में होगा। इब्ने हवाला ने अर्ज़ किया कि अल्लाह के रसूल आप सल्ल० कोनसे लश्कर की तरफ जाऊं, मेरे लिए किस लश्कर की तजवीज़ आप रखते हैं।जब मुसलमान इस तरह लश्कर में होंगे  आप सल्ल० ने फ़रमाया तुम मुल्क ए शाम के लश्कर को लाज़िम पकड़ना क्योंकि वह अल्लाह की सरज़मीं है। अल्लाह का पसंदीदा खितबा है , वह अपने पसंदीदा बन्दों को इसकी तरफ लायेगा, हाँ अगर तुम वहां न जा सके तो यमन के लश्कर की तरफ जाना। अल्लाह तआला ने शाम और अहले शाम की हिफाज़त की जमानत मुझे दी है।     

(अबू दाऊद)


सैय्यदना सलमा से रिवायत है कि मैं आप सल्ल० के साथ बैठा हुवा था, एक आदमी आया और आकर कहने लगा या रासुल्लुलाह आप सल्ल० लोगों ने घोड़ों की लगाम छोड़ दी, हथियार ढाल दिए, और यह कहने लग गए की अब कोई जेहाद बाकी न रहा, किताल ख़त्म हो गया। आप सल्ल० ने फ़रमाया वह झूट बोल रहे हैं , किताल तो अभी शुरू हुवा है , मेरी उम्मत में एक गिरोह हक़ के साथ किताल करता रहेगा और अल्लाह कुछ लोगों के दिलों को फेर देगा और उनके ज़रिये उनको फायदा पहुंचाएगा, यहाँ तक की आखरी लम्हात आ जायेंगे और अल्लाह का वादा पूरा होगा, घोड़ों की पेशानियों पर क़यामत तक के लिए खेर रख दी है। आप सल्ल० ने फ़रमाया मुझ पर वह्य की जा रही है कि मैं जल्द तुम लोगों से जुदा हो जाऊंगा, तुम मेरे बाद आपस में लड़ोगे, अहले ईमान मुल्क ए शाम का रुख करेंगे । उनका घर मुल्क ए शाम होगा।।     

(नसाई)


अब्दुल्लाह अम्र बिन आस से रिवायत है कि आल सल्ल० ने फ़रमाया ज़मीन वालों में सबसे बेहतर वह लोग वो लोग होंगे जो इब्राहिम अलैहि० की जज़ा यानी मुल्क ए शाम की तरफ हिज़रत करेंगे।     


(अबू दाऊद)

THE ROAD TO JUSTICE (IRSHAD ALI)







मुसलमान जिन्हें आतंकवादी बना दे


आतंकवाद की दुनिया सपाट भले दिखती है मगर होती नहीं। यहां असली आतंकवादी कौन है, और आतंकवाद का इल्ज़ाम किस पर गढ़ दिया गया है, यह तस्वीर साफ़ होने में सालों बीत जाते हैं। जो समाज और मीडिया पहले दिन आंख बंद कर उन्हें आतंकी मान लेता है, वो रिहा होने पर यह ख़बर भी नहीं दिखाता कि फलां के साथ 20 साल पहले पुलिस या व्यवस्था ने कितनी नाइंसाफी की थी।


दिल्ली के सामान्य से ड्राइवर इरशाद अली की कहानी आंखें खोलने वाली है। इरशाद किस्मत वाले थे जो ज़िंदा बच गए। उनकी कहानी एक साथ व्यवस्था की कई खामियों को उजागर करती है। यह धर्म के नाम पर भेदभाव करती है, यह अपने नागरिकों को आतंकवादी से अपराधी तक बनने के लिए मजबूर करती है, यह व्यवस्था इतनी अक्षम है कि यह सब करने में असफल रहने पर अपने ही लोगों को जेल में डाल देती है, इतना सब होने के बाद भी अगर कोई अदालतों के जरिए बच जाता है तो यह व्यवस्था इस यातना के लिए ज़िम्मेदार लोगों से पलट कर दो सवाल भी नहीं कर पाती, किसी को जवाबदेह तक नहीं ना पाती।


इरशाद जिन्हें महीनों के टॉर्चर, 4 साल की जेल, 11 साल की कानूनी लड़ाई के लिए मजबूर किया गया, क्या जवाबदेह एजेंसियों और अफ़सरों से इसकी वजह पूछी जा सकती है? इरशाद जब जेल में रहे, तब घर चलाने के लिए उनकी बीवी शबाना ने अकेले लंबा संघर्ष किया। वक़्त से पहले उनकी उम्र ढल गई।


नांगलोई की एक झुग्गी बस्ती इंदिरा एन्क्लेव में जहां इरशाद का घर है, वह बियाबान इलाका है। घर तक पहुंचने के लिए कच्ची सड़क है। 30 ग़ज़ के मकान के ठीक बाहर जहां आसपास के घरों से निकलने वाला गंदा पानी जमा होता है, वहां इरशाद का सबसे छोटा बेटा और उनकी बहन की बेटी हाथ में हाथ डाले खड़े हैं। एक छोर पर कब्रिस्तान है और ज़मीन का बाक़ी टुकड़ा बंजर खेत।


1991-1996: मज़दूर


41 साल के इरशाद की पैदाइश दिल्ली की है। उनके अब्बा मुहम्मद यूनुस दिल्ली की तीस हज़ारी कोर्ट में एक वकील के मुंशी थे। मदरसे की तालीम के लिए उन्होंने इरशाद को दरभंगा में अपने पुश्तैनी गांव पैग़ंबरपुर भेजा। इरशाद ने मदरसा अहमदिया सल्फिया से क़ुरआन का हाफ़िज़ा मुश्किल से किया। वहां का सख़्त अनुशासन वह नहीं झेल पाए और पढ़ाई बीच में छोड़कर 1991 में दिल्ली आ गए।


इरशाद के बड़े भाई नौशाद एक मर्डर में सज़ायाफ़्ता हैं। 25 साल से वह तिहाड़ में हैं। 1991 में दिल्ली लौटने तक इरशाद की छह बहनों में से दो की शादी हो गई थी और चार कुंवारी थीं। घर चलाने की ज़िम्मेदारी इरशाद और उनके अब्बा युनूस पर थी। 1996 में मुहम्मद यूनुस ने इरशाद को एक पुराना ऑटो ख़रीदकर दिया।

1996-2001: ऑटो ड्राइवर


ऑटो चलाने के दौरान इरशाद अपने भाई नौशाद से मिलने तिहाड़ जाया करते थे। मुलाक़ात के दौरान जेल के अन्य क़ैदी जो जेल में नौशाद के दोस्त बने थे, वो इरशाद के ज़रिए अपने घर चिट्ठियां भेजने जैसे काम करवाने लगे। इसकी ख़बर दिल्ली पुलिस को लग गई और यहीं से उनके बुरे दिन शुरू हुए।
1996 में दिल्ली पुलिस के एसीपी राजबीर सिंह ने इरशाद और उनके अब्बा को हिरासत में ले लिया। दोनों को मौरिस नगर थाने में एक-दूसरे के सामने टॉर्चर किया जाता। इरशाद से पूछा जाता कि उनके संबंध किन-किन आतंकियों से हैं?


इरशाद के लिए पुलिस यातना का यह पहला अनुभव था जिसमें उन्हें उलटा लटकाकर मारने से लेकर उनके यौन अंगों पर पेट्रोल तक डाला गया। इरशाद कहते हैं, ‘टॉर्चर के दौरान पुलिस हिंसा के साथ-साथ अपमानित करने के हर उपाय इस्तेमाल करती थी।’ 10 दिन की यातना के बाद दोनों को छोड़ दिया गया।


जिस एसीपी राजबीर सिंह ने उन्हें उठाया था, वह दिल्ली पुलिस के इतिहास के सर्वाधिक विवादित अफ़सरों में से रहे हैं। 1982 में उन्होंने बतौर सब इंस्पेक्टर दिल्ली पुलिस ज्वाइन किया और महज़ 13 साल में प्रोमोट होकर एसीपी बने थे। वह एनकाउंटर स्पेशलिस्ट थे मगर 2008 में उनके ही एक जानकार प्रॉपर्टी डीलर ने गुड़गांव में उनकी हत्या कर दी। इससे पहले वह 50 से ज़्यादा एनकाउंटर कर चुके थे। 3 नवंबर 2002 को अंसल प्लाज़ा में दो ‘आतंकियों’ का विवादित एनकाउंटर भी उन्होंने ही अंजाम दिया था।


इरशाद अली को दूसरी बार चार महीने बाद क्राइम ब्रांच के एसीपी रविशंकर ने उठाया। उन्हें 8 दिनों तक चाणक्यपुरी पुलिस स्टेशन में यातना दी गई और आतंकियों से रिश्ते पर क़ुबूलनामे का दबाव बनाया जाता रहा।
यहां से रिहा होने पर अगले पांच साल तक इरशाद का जीवन यूं ही गुज़र गया। शबाना नाम की एक लड़की से उनकी शादी हो गई थी और एक बेटा भी हो गया था।
शादी के बाद इरशाद और शबाना

2001-2005: सिक्रेट एजेंट


तीसरी बार इरशाद को नवंबर-दिसंबर के महीने में 2001 में आईबी ने उठाया। अनजान जगह पर साउंड प्रूफ़ कमरे में उन्हें रखा गया। तीन दिनों तक टॉर्चर किया गया और आतंकियों से रिश्ते पर क़ुबूलनामे का दबाव बनाया जाता रहा। इरशाद के मुताबिक, ‘उसी दौरान वहां आने वाले आईबी के एक बड़े अफ़सर ने अपने मातहतों से कहा कि इसे क्यों टॉर्चर करते हो। यह काम का आदमी है।’


इरशाद के सामने मुख़बिर बनने की शर्त रखी गई। उन्होंने हामी भर दी जिसके बाद आईबी के अधिकारियों ने उन्हें लक्ष्मी नगर मेट्रो स्टेशन पर अपनी गाड़ी से ले जाकर छोड़ा। साथ में घर तक जाने के लिए 500 रुपए भी दिए।


2001 से इरशाद आईबी के लिए मुख़बिरी करने लगे। उनका काम उन चिट्ठियों को पहले आईबी को दिखाना होता था जो तिहाड़ जेल के क़ैदी अपने घर पहुंचाने के लिए इरशाद को दिया करते। आईबी का मानना था कि इन चिट्ठियों से उन्हें होने वाले किसी अपराध की कोई लीड मिल सकती है लेकिन ऐसा नहीं हुआ। आईबी इस काम के लिए उन्हें हर महीने 5 हज़ार की तनख़्वाह देती थी।


इसी दौरान इरशाद दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के भी सिक्रेट एजेंट बन गए थे। उनकी मुख़बिरी से क्राइम के मामले सुलझते तो पर्दे के पीछे से यह सब देखकर इरशाद को फख्र होता कि वह इंटलिजेंस ब्यूरो और स्पेशल सेल जैसी संवेदनशील एजेंसी के सिक्रेट एजेंट हैं। वह पिछली पुलिस यातनाओं को भूल गए थे और अपने कज़िन मौरिफ़ क़मर को भी एजेंसियों से मिलवाकर इस काम में लगा दिया था।


इरशाद की मुख़बिरी से दिल्ली पुलिस ने अपराध के कई मामले सुलझाए लेकिन इंटलिजेंस ब्यूरो के लिए वह कुछ नहीं कर पा रहे थे। तिहाड़ जेल से मिली चिट्ठियों से आईबी को कोई लीड नहीं मिल रही थी। वह हर दो चार दिन में आईबी के अफ़सरों से मिलते। उनके साथ उठते-बैठते, खाते-पीते लेकिन हाथ कुछ नहीं आ रहा था। इस दौरान आईबी के ही एक बुज़ुर्ग अफ़सर इरशाद की ब्रेनवॉशिंग करते। उन्हें कनविंस करते कि देश के लिए कुछ करो। इरशाद उस अफ़सर को श्याम अंकल बुलाते थे।


2003 में आईबी ने इरशाद की मुलाक़ात अपने दो कश्मीरी एजेंटों इम्तियाज़ और फ़ैय्याज़ से करवाई और पाकिस्तान में सक्रिय आतंकी संगठनों के बीच पैठ बनाने के लिए कहा। चूंकि इरशाद एक सलफ़ी विचारधारा के मदरसे से हाफ़िज़े क़ुरआन थे, तो आईबी के अफ़सर कहते कि तुम्हारा बैकग्राउंड बिल्कुल परफ़ेक्ट है। तुम आसानी से उन आतंकी संगठनों के बीच अपनी जगह बना सकते हो।


आईबी ने इरशाद को फ़ोन दे रखा था और पाकिस्तान के कुछ नंबर भी जिनपर बात करके वह आईबी को रिपोर्ट करते थे। आईबी के अफ़सर भी उन्हें अपने आधिकारिक नंबरों से बराबर फ़ोन लगाते रहते। इरशाद के मुताबिक दो साल के बीच कम से कम 90 कॉल और कुछ मैसेज उनके मोबाइल पर आईबी अफ़सरों के नंबर से आए थे जो उनकी बेगुनाही साबित करने में पुख़्ता सुबूत बने।


जब पाकिस्तानी नंबरों पर बातचीत से भी आईबी को कोई ख़ास लीड नहीं मिली तो उन्हें पाकिस्तान जाकर वहां आतंकियों के बीच  पैठ बनाने के लिए कनविंस किया गया। 2004 में वह पाकिस्तान में घुसपैठ के लिए निकले लेकिन जम्मू के सीमाई इलाक़े में मिलिट्री इंटेलिजेंस के हत्थे चढ़ गए। ख़ुद को आईबी एजेंट बताने के बावजूद यहां मिलिट्री इंटेलिजेंस ने उन्हें चार दिनों तक यातना दी, फिर दिल्ली के आईबी के अफ़सर जम्मू गए और इरशाद को छुड़ाकर लाए।


2005-2016: आतंकवादी


इरशाद की केस स्टडी से साफ़ है कि आईबी की तमाम कोशिशों के बावजूद उसे टेरर नेटवर्क की कोई पुख़्ता लीड नहीं मिल पा रही थी। तब आईबी ने उनसे कहा कि वह अपना पासपोर्ट बनवाएं और लीगल तरीक़े से पाकिस्तान में एंट्री करें। मगर पासपोर्ट बनने के दौरान ही इरशाद का मन बदल गया। वह सरबजीत और अन्य एजेंटों की ख़बरें पढ़कर डर गए थे। उन्होंने पाकिस्तान जाने से मना कर दिया और देश में ही रहकर मुख़बिरी करने को कहने लगे। आईबी भी उनसे कह चुकी थी कि अगर वह पाकिस्तान में पकड़े गए तो कोई मदद नहीं कर पाएंगे।


इसी दौरान आईबी के एक अफ़सर माजिद दीन के एक प्रोपोज़ल ने इरशाद का मन खट्टा कर दिया और उन्होंने मुख़बिरी के काम से अलग होने का मन बना लिया। बार-बार किसी लीड में नाकाम होने पर माजिद दीन ने उनसे एक बार कहा था, ‘काम होता नहीं है, काम बनाया जाता है। क़ुर्बानी के लिए बकरे तैयार किए जाते हैं।’
इरशाद से कहा गया कि वह मुसलमानों की बस्तियों में जाएं। वहां लड़कों में उन्मादी जज़्बात पैदा करें। उन्हें पाकिस्तान ट्रेनिंग के लिए भेजे और फिर जैसे ही वे भारत लौटकर वापस आएंगे, हम उन्हें आतंकवादी कहकर गिरफ़्तार कर लेंगे। इस तरह आईबी का ‘गुडवर्क’ हो जाएगा।


इरशाद कहते हैं कि मुझे यही बात ग़लत लगी। यह एक तरह से मासूम लड़कों को फंसाने का प्रोजेक्ट था। मैंने इस काम के लिए मना कर दिया और आईबी के पास जाने से बचने लगा।


इरशाद दिसंबर 2005 में आईबी से मिलने वाली 5 हज़ार की तनख़्वाह लेने भी नहीं गए। फिर 12 दिसंबर को उनके पास माजिद दीन का फोन आया। माजिद ने कहा कि वह मिलते नहीं आया और इस महीने की तनख़्वाह लेने नहीं आए। इरशाद धौला कुआं के करीब मौर्या होटल के पास उनसे मिलने गए और यहीं से उन्हें जिप्सी में रखकर उठा लिया गया। इरशाद को नहीं पता चला कि उन्हें किस जगह रखा गया है। वह अमूमन इनसे मौर्या होटल, आईटीओ और बंगाली मार्केट के पास मिला करते थे।


इसके बाद इनके कज़िन मौरिफ़ क़मर को भी उठाया गया। जब मौरिफ़ को आईबी ले जा रही थी तो उनकी आंख पर पट्टी डालना भूल गई थी। जब आईबी को याद आया तो उन्होंने जल्दबाज़ी में मौरिफ़ की आंख पर पट्टी बांधी। इरशाद बताते हैं कि तब मौरिफ़ ने सड़क पर लगा साइनेज देख लिया था, वह राजघाट का इलाक़ा था। इसके दो तीन मिनट बाद गाड़ी रुक गई थी और मौरिफ़ भी सेल में डाल दिए गए थे।


इरशाद और मौरिफ़ को सेल में फरवरी के पहले हफ्ते तक रखा गया। इरशाद कहते हैं कि हमारा सेल लाल क़िले के आसपास कहीं था। हर साल गणतंत्र दिवस के मौक़े पर लाल क़िले के परिसर में मुशायरा हुआ करता है। जनवरी 2006 में जब यह मुशायरा हो रहा था तो शायरों की नज़्में और ग़ज़ले इरशाद के सेल तक आ रही थीं। इरशाद ने कहा, ‘मैं पूरी रात लेटा हुआ मुशायरा सुन रहा था।’


लाल क़िले पर मुशायरे की परंपरा मुग़लों के दौर से चल रही है। यहां दीवान-ए-आम में सालाना मुशायरा हुआ करता था। दिल्ली के बाशिंदे इसे सुनने जाया करते थे। 1857 में जब अंग्रेज़ों ने लाल क़िले पर कब्ज़ा किया तो यह रिवायत बंद हो गई थी। आज़ादी के बाद 1950 में गणतंत्र दिवस के मौक़े पर प्रधानमंत्री नेहरू ने इसे दोबारा शुरू किया लेकिन 2016 में पहली बार सुरक्षा कारणों का हवाला देकर यह मुशायरा रद्द कर दिया गया।


इरशाद बताते हैं, ‘सेल में मुझे बताया गया कि मेरा एनकाउंटर करने की तैयारी थी क्योंकि मैंने आईबी का काम करने से मना कर दिया था। उन्होंने मुझसे कहा, ‘तुझे खिला-पिलाकर इसीलिए बड़ा किया था? हम तुझे मारने वाले थे लेकिन इरादा बदल दिया। अब कुछ साल जेल में रहना और जब काम करने के लिए तैयार हो जाना तो हमें जेल से चिट्ठी लिख देना, हम दो चार साल में तुम्हें निकलवा लेंगे।’


तक़रीबन 2 महीने तक इसी तरह सेल में रहने के बाद 9 फ़रवरी 2006 को इरशाद और मौरिफ़ को करनाल बाइपास ले जाया गया। यहां उनकी तस्वीरें ली गईं और दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने मीडिया के सामने पेश कर कहा कि अल बद्र के दो आतंकी गिरफ़्तार किए गए हैं। उस वक़्त की अगर मीडिया में छपी ख़बरें पढ़ें तो ज़्यादातर अख़बारों ने हूबहू स्पेशल सेल की मनगढ़ंत कहानी छाप दी है। क्राइम रिपोर्टरों ने अपने स्तर पर पुलिस के दावों की पड़ताल करने की ज़हमत नहीं उठाई।


इरशाद जब तिहाड़ जेल में थे, तब वहां उनकी अपने भाई नौशाद समेत तमाम क़ैदियों से मुलाक़ात होती थी। संसद हमले के दोषी अफ़ज़ल गुरु भी दिख जाते थे। एक बार जब इरशाद ने अफ़ज़ल गुरू से अपने टॉर्चर के बारे में बताया तो वह हंसने लगे। बक़ौल इरशाद, ‘अफ़ज़ल गुरु ने कहा था कि यह टॉर्चर कुछ भी नहीं है। मुझे बाथरूम में बंद करके मेरे सिर पर पेशाब किया गया है।’


इरशाद और मौरिफ़ की गिरफ़्तारी पर हुई रिपोर्टिंग की कतरनें


2009-2016: बेगुनाह


मौरिफ़ क़मर के भाई ने इस केस में दिल्ली हाईकोर्ट को अप्रोच किया था। जब स्पेशल सेल की कहानी पर शक हुआ तो हाईकोर्ट ने सीबीआई से तफ़्तीश का आदेश दिया। 11 नवंबर 2008 को सीबीआई ने अपनी क्लोज़र रिपोर्ट में इरशाद अली की मुख़बिरी से लेकर आतंकवादी होने तक का सिलसिलेवार ब्यौरा सुबूतों के साथ कोर्ट को सौंप दिया था। सीबीआई की जो टीम इस केस की तफ़्तीश कर रही थी, उसे स्पेशल सेल के एक पुलिसकर्मी ने फोन पर धमकाया था। तब सीबीआई ने अपनी जानमाल की गुहार दिल्ली हाईकोर्ट से लगाई थी।


सीबीआई की तफ़्तीश के दौरान की कतरनें

सीबीआई की क्लोज़र रिपोर्ट के आधार पर इरशाद को 2009 में ज़मानत मिली और 22 दिसंबर 2016 को उन्हें कोर्ट ने बेगुनाह क़रार दे दिया है। इरशाद जब तिहाड़ में थे तो उनकी बीवी शबाना मज़दूरों के लिए खाना बनाकर घर का ख़र्च चलाती थीं। इस केस से बाहर निकलने पर शबाना धीमे से मुस्कुराती हैं लेकिन अपने मुश्किल दिनों के बारे में कुछ बोल नहीं पातीं। वो इरशाद की तरफ़ इशारा करते हुए कहती हैं, ‘बस उन्होंने जितना बोल दिया, उतना ठीक है।’


28 दिसंबर को इरशाद अली के रिहा होने की स्टोरी इंडियन एक्सप्रेस अख़बार में छपी थी। इसमें इरशाद के हवाले से लिखा है, ‘जिन्होंने ज़ुल्म किया, मुझे उनपर कार्रवाई की उम्मीद नहीं है। उनपर कार्रवाई का कहीं ज़िक्र तक नहीं हुआ है। हम जानते हैं कि सरकार हमसे एक बार माफ़ी तक नहीं मांगेगी।’


यह ख़बर पढ़कर एक रिटायर्ड जज इरशाद अली के घर गए। वह इरशाद से माफ़ी मांगना चाहते थे लेकिन उस दिन इरशाद टैक्सी लेकर जयपुर गए थे। इस रिपोर्टर से इरशाद की बीवी शबाना ने बताया कि जज साहेब ने माफ़ी मांगी। अपना फोन नंबर और पता भी लिखकर दिया है।


2005 में जेल जाने से पहले तक इरशाद ऑटो चलाते थे। ऑटो की आमदनी के अलावा उन्हें 5 हज़ार रुपए प्रति माह आईबी से मिलते थे। अब वह एक कैब कंपनी में टैक्सी ड्राइवर हैं। उनकी तनख़्वाह 7 हज़ार रुपए है। बड़ा बेटा नौवीं की पढ़ाई पूरी कर चुका है। आगे पढ़ाने के लिए रुपए नहीं हैं। जल्द ही इरशाद अपने बेटे को ऑटो चलाने के काम में लगाएंगे।

MAUT KI CHAKKI ZOR ZOR SE CHAL RAHI HAI AUR LOG GHAFLAT ME PADE HUE HAIN







MAUT KI CHAKKI ZOR ZOR SE CHAL RAHI HAI AUR LOG GHAFLAT ME PADE HUE HAIN




Maut ki Chakki Jor Jor Se Chal Rahi...

Aur Log Gaflato'n Me Pade huye Hain Duniya Me Be Shumar Masayil Me Ikhtilaf Hai...

Islam Aur Kufr Ke Darmiyan Bahut Ikhtilaf hai...
Ek Mulk Ke Andar Rahne Walo'n Me Ikhtilaf huta hai,
Ek Shahar Ek Muhalle Ke Logo'n Me Ikhtilaf hu Jaata Hai,
Hatta Ki Ek Ghar Me Rahne Wale Ek Khandan ke Afraad ke Darmiyan Ikhtilaf hu Jaata hai...

Lekin Duniya me Ek Aaisa Masla Hai Jis Me kisi ek Fard ko Bhi Ikhtilaf Nhi Kisi Muslim, kisi Yahodi, Kisi Esayi, Kisi Hindu Kisi Parsi, Kisi Majosi Hatta Ki Kisi La Deen ( Mulhid Dahriya Nastik) ko Bhi. 

Kisi Ameer, Kisi Gareeb, Kisi Aala Kisi Adna, Kisi Gore Kisi kale, kisi Aalim Kisi Aami, kisi Mard Aur Kisi Aaurat ko Bhi Ikhtilaf Nhi...

Ji han ! O Masla hai ''Maut''' Har Koi Maanta Hai ki Usko Maut Aani Aur Ek din Usne Is Jaha'n Faani Se. Koch Kar Jaana Hai...

Har koi Maanta Hai, Ki Uski Daulat yahi'n Rah Jaani Hai Aal o Aaulad yahi'n Rah Jaani Hai Duniya Ki Rangini Se Nikal Kar Use Ek Tareek Qabr Me Dafn Kar Diya Jaana Hai...

Lekin Phir bhi Gaflat Me Pade Hain Malik'e Arzo Sama Irshad Farmata Hai
_____________________________________
:.اِقۡتَرَبَ لِلنَّاسِ حِسَابُہُمۡ وَ ہُمۡ فِیۡ غَفۡلَۃٍ مُّعۡرِضُوۡنَ ۚ
الانبیاء،
_____________________________________

Logo ke Hisaab Ka Waqt Qareeb Aa Gaya Aur O hain ki Gaflat Me Monh Mode Huye Hain....
Roye Zameen Par Koi Aaisa Ghar Nhi Jis Par Maut Ne Apna Saya Na Daala hu.... Kisi ne Baap ka, Kisi ne Maa ka. Kisi ne Dada dadi, kisi ne Biwi ka Kisi ne Bacche ka Janaza Uthaya...

Ham Ne Apne Gharo, Riste Daro Ke Gharo, ham Sayo ke Gharo Se Janaze Uthte Dekhe, Aur Dekhte Hain ,Lekin Kabhi Yeh Ehsas Paida Nhi huta Ki yeh Uthne Wala Janaza Mera Bhi hu Sakta Hai...
Yeh Dafnaya Jaane Wala Murda Mai Bhi Hu Sakta Hun...

Qabre'n Dekh Kar yeh Fikr Paida Nhi huti ki In me Meri Qabr Bhi hu Sakti hai...

Pak Paigambar ne farmaya tha : Qabro'n ki Jiyrat Kiya karo Taki Tumhe Aakhrirat Yaad Aaye,
Aaj Murda Dafnate Dekh Rahe hute hain Magar Zahann Duniya ke Jhamelo Me Gum huta Hai...
Nazar Murde Par Huti Hai Magar Phone Par kaaro baari Baate'n hu Rahi huti Hai....
_____________________________________
اَلۡہٰکُمُ التَّکَاثُرُ ۙحَتّٰی زُرۡتُمُ الۡمَقَابِرَ ؕالتكاثر، 1-2)
_____________________________________

Logo tum ko Maal ki bahut Si talab Ne Gafil Kar Diya, Yaha'n Tak Ki tum ne Qabre'n Ja Dekhe'n,yeh Jaante Hain ki Marna Hai Magar Yeh Waham yaqin Tak Pahunch Chuka Hai
Ki Abhi Nhi Marna Abhi kafi Umar Padi Hai, Magar Haqiqat yeh ki Maut har Waqt Sar Par Mandala Rahi hai....

Hadees Me Aata hai...

Jis Ke Janaze Me Dua Karne Wale 40 Mawahid log Mauzod huye us ki Bakhahish hu Jayegi...

Kya hamne Aaise 40 Log Jama Kar Liye Hain Jo Hamare Janaze me Shareek hun Aur Hamare Liye Bakhahish Ki Dua kar Sake'n.....

Qabar Andheri Kothri Hai Kiya Hamne Aaise Amal Kar Liye Hain Jin se Qabar Manauwer Hu Sake...

Aur Sab Se Aham Baat Kiya ham Is Qabil Hain ki Zameen Hamare Gunaho Samet Hame'n Qubol Kar Sake...

Kiya Qabar ki Chandd Gaz Zameen Mayassar Hugi Qabar ka Azab barhaQ Hai is me Dhaal Banne Wala Quran Hai SadQa Hai. Gibat Aur Chugal Khori Jaise Gunaho Se Bachna Hai..
Rasool,e Pak Ne Farmaya Tha...
Qabar Jannat ke Bago'n Me Se Bag Hai ya Jahannam ke Garho'n Me Se Garha Hai.bas Tesri Halat koi Nhi....

Aaj Dekh Lo. Soch Lo Kis Halat Me Rahna Pasand. Karoge Is Fiqr me Pad Jao Baki Fiqre'n Dam Tod De'ngi....
Ek Shayar kahta
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
الناس فی غفلاتہم ورحی المنیتہ تطحن"
,,,,,.,,,.,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

Maut ki Chakki Jor jor Se Chal Rahi Hai
Aur log Gaflato me Pade huye hain ....

"

DEWAR AUR BHABHI








DEWAR AUR BHABHI



Aaj Kal Jo Sabse Zyada Khatarnak Fitna Muslim Muasharey Mein Chal Raha Hai Woh Dewar Aur Bhabhi Ka Ikhtilat(Mixing)Hai


Aksar India Aur Pakistan Mein Aam Taur Par Dekha Gaya Hai Ke Shadi Ke Baad Ladki Apne Sasural Mein Dewar Aur Jeth Ke Saath Bagair Sharayi Parde Ke Rehti Hai Aur Is Mein Koi Aib Bhi Nahi Samjha Jata Hai

Jawan Dewar Ka Apni Bhabhi Ke Saath Hansi Mazak Aur Chedkani Aam Hai
Aksar Aurtein Apne Dewar/Jeth Ke Saamne Bagair Sharayi Parde Ke Rehti Hai Aur Jab Unse Parde Ke Baare Mein Kaha Jaye To Kehti Hai Ye To Mere Chote Bhai Jaisa Hai
Kya Islam Mein Ye Jayez Hai?

Ek Aurat Ke Liye Har Us Shaks Se Parda Zaroori Hai jo Gair Mehram Hai
Jiske Saath Ta-Hayat Aurat Shadi Kar Sakti Hai
Quran Mein Iski Wazahat Hume Milti Hai
Gair Mehram Se Parda Karna Ebadat Hai


Allah Ta'ala Ka Farman Hai


"Aur Momin Aurtoon Se Bhi Kaheye K Woh Apni Nigahain Neeche Rakha Karain Aur Apni Sharam Gaho Ki Hifazat Kia Karain Aur Apni Zeenat Ko Zahir Na Karain Mager Jo Az Khud Zahir Ho Jae Aur Apni Odhnia Apne Seeno Per Dal Lia Karain Aur Apni Zeenat Ko Zahir Na Karein Magar In Logo Ke Samney


Baap , Sasur , Bete (Sotele Bete) Bhai, Bhatijey, Bhanjey Apni Mel Jol Wali Aurtain Kanezain Jinki Woh Malik Hon Aise Khadimm Mard Jo Aurtoon Ki Hajut Na Rakhtey Hon Aur Aise Larkey Jo Aurtoon Ki Poshida Bato Se Abhi Waqif Na Hoe Hon Aur Apne Paoon Zameen Per Martey Hue Na Chalain Ke Jo Zeenut Inhoney Chupa Rakhi Hai Iska Logon Ko Ilm Ho Aur Ae Iman Walo!!
Tum Sub Allah Ke Hazoor Tauba Karo Tawaq'qo Hai Ke Tum Kamyab Ho Jao-"

( Al Quran, Surah Al Noor, Ayat 31)


Is Ayat Mein Allah Ta'ala Har Momin Aurat Ko Hukm De Raha Hai Jiski Ita'at Har Momina Par Farz Hai Aur Iske Inkaar Se Allah Ki Pakad Lazim Hai


Rasool Akram Sallallahu Alaihi Wasallam ne Irshad Farmaya:


“(Na Mahram) Aourton ke paas jane se bacho!” Aik Ansari sahabi farmane lage: Ya RasoolAllah! Khawind ke bhaiyyon (dewar aur jeth wagerah) se Mutalliq Aap Sallallahu Alaihi Wasallam ka kya hukum hai? RasoolAllah Sallallahu Alaihi Wasallam ne Irshad Farmaya: "Khawind ke bhai to Mout hain Mout. (Yani in se pardah karne aur door rahne ka to bahot Zyadah Ehtemam karna chahiye)."

( Sahih Al Muslim, Vol. 5, Hadith 5674)


Is Hadees Se Wazeh Huwa Ke Dewar Se Sharayi Parda Karna Har Aurat Par Farz Hai Lazim Hai
Tirmizi Shareef  Ki Ek Sahih Hadees Mein Rasoollallah Sallallahu Alaihi Wasallam Ne Farmaya Hai Ke Jab Ek Aurat Aur Ek Mard Tanhayi Mein Milte Hai To Unka Teesra Saathi Shaitan Hota Hai
(Jami At Tirmizi, Hadith 1171)

Quran Mein Allah Ta'ala Ne Farmaya Hai Ke Shaitan Tumhara Khula Dushman Hai
(Al Quran, Surah Bakra 2, Aayaat 207)

Shaitan Har Mumkeen Koshish Karta Hai Ke Dewar Aur Bhabhi Mein Hansi Mazak Ke Zariye Aapas Mein Ek Dusre Ke Dil Mein Ghar Banaya Jaye


Phir Ye Hansi Mazak Aage Chal Kar Zina Jaise Bhayanak Gunaah Ko Anjam Deti Hai
Dewar Ko Maut Is Liye Kaha Gaya Hai Kyun Ke Woh Ghar Mein Aasani Se Aata Jaata Rehta Hai
Uspar Kisi Ko Shak Nahi Hota Koi Agar Bahar Ka Aadmi Ghar Mein Aaye To Gharwalon Ki Aur Padosiyon Ki Nazar Us Par Rehti Hai


Aurat Ke Liye Sasural Ho Ya Uska Mayka Har Waqt Har Jagah Uske Liye Gair Mehram Se Parda Karna Farz Hai Lazim Hai

Bohot Se Ghar Isi Bina Par Ujad Gaye Ke Dewar Aur Bhabhi Ke Najayez Sambandh Ban Gaye The
Is Fitne Se Bachne Ki Har Mumkeen Koshish Zaroori Hai . Behtar Honga Agar Shadi Ke Baad Alag Raha Jaye .Ya Phir Mukammal Parde Ke Hifazat Ki Jaye


Allah Hume Sahih Deen Par Chalne Wala Banaye

Allah Subhanahu Wa Ta'ala Du'a Hai Ke Hum Ko Ghar Walon Ko Aap Logon Ko Or Sare Musalmano Ko Quran O Sunnat Ko Sahaba Ke Manhaj Par Amal Karne Wala Fir Daw'at Dene Wala Banaye,


Ameen Ya Rabbal Almeen Ya Hayyu Ya Qayyum